घर के काम के साथ करती थी पढाई , UPSC में दूसरे प्रयास में सलोनी बनी आईएएस अफसर

यूपीएससी की परीक्षा को अपने आप में सबसे कठिन और कड़ा एग्जाम माना जाता है | ऐसा कहा जाता है कीं अगर इंसान ठान ले तो वो दुनिया में कुछ भी कर गुजर सकता है |  कोई ऐसा व्यक्ति भी होते हैं जिन्हें सालों बाद भी इस परीक्षा में निराशा ही हाथ लगती है लेकिन कई ऐसे आईएएस अफसर भी हैं जो बिना कोचिंग क्लासेज के ही स्वध्याय के दम पर इस परीक्षा में कामयाबी पाते हैं। ऐसी ही कहानी दूसरे प्रयास में आईएएस अफसर बनी सलोनी वर्मा पुरे परिवार में है ख़ुशी की लहर….

बता दे की सलोनी बिहार के पड़ोसी राज्य झारखंड के जमशेदपुर से आती है लेकिन ज्यादातर समय दिल्ली में ही गुजरा। ग्रेजुएशन के बाद यूपीएससी की तैयारी में भीड़ गई इसके लिए उन्होंने कोचिंग क्लासेस ना लेकर सेल्फ स्टडी से ही तैयारी करने का निर्णय लिया। यूपीएससी की परीक्षा दी। पहले प्रयास में असफलता हाथ लगी फिर उन्होंने बेहतर रणनीति से दूसरा अटेम्प्ट दिया इस बार उन्होंने सफलता हासिल की। सलोनी को पुरे भारत में 70 वां रैंक हहिल हुआ |

यह भी पढ़ें  स्कूल के साथ करते थे जूते-चप्पलों की दुकान में काम, आर्थिक तंगी को मात देकर किया UPSC को क्लियर

अब सलोनी यूपीएससी की तैयारी कर रहे अभ्यर्थियों को सलोनी सलाह देती है कि हमें अपने खुद की छमता और रुचि के बारे में अच्छी तरह समझ होनी चाहिए। यूपीएससी टॉपर्स इंटरव्यू और ब्लॉग पढ़ने चाहिए। सलोनी कहती है कि यूपीएससी के लिए कोचिंग की जरूरत नहीं होती है अगर सही मार्गदर्शन ना मिले तो कोचिंग ज्वाइन करने में कोई हैरानी नहीं है। निरंतर मेहनत और सेल्फ स्टडी के दम पर ही इस कठिन परीक्षा में सफलता मिलेगी।

नोट : इस न्यूज़ को इंटरनेट पर उपलब्ध अन्य वेबसाइट से म‍िली जानकारियों के आधार पर बनाई गई है। firstbharatiya.com अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है।

यह भी पढ़ें  IAS Interview Question : वह कौन सी चीज है जिसे हम खाने के लिए खरीदते है लेकिन खाते नहीं है ?