IAS Success Story: घर पर रहकर खुद से पढाई कर शुरू की UPSC की तैयारी, पहले ही प्रयास में सफलता हासिल कर बन गईं IAS अधिकारी

IAS Success Story: दोस्तों आज के इस खबर में हम दिल्ली के रहने वाली आईएएस सौम्या शर्मा (IAS Saumya Sharma) के बारे में बताने जा रहे हैं. जिन्होंने मात्र 4 महीने की तैयारी में ही साल 2017 में देश की सबसे कठिन यूपीएससी (UPSC – Union Public Service Commission) की परीक्षा में पूरे ऑल इंडिया में 9 वीं रैंक प्राप्त कर आईएएस अफसर बन गई. दोस्तों आपको हम बता दें कि आईएएस सौम्या शर्मा ने बिना कोचिंग के सहारे ही अपने सेल्फ स्टडी के दम पर आज इतना बड़ा मुकाम हासिल किया है. इनकी यह सफलता दुनिया के सभी लोगों को हैरान कर सकती है.
यह भी पढ़े – IAS Success Story: घर की खराब आर्थिक स्थिति होने की वजह से डॉक्टर की नौकरी छोड़कर शुरू किया UPSC की तैयारी, बना IAS अधिकारी

YYIIKJJ
IAS Saumya Sharma

IAS UPSC Success Story: दोस्तों आपको बता दें कि आईएएस सौम्या शर्मा (IAS Saumya Sharma) बचपन से ही पढ़ने में काफी तेज थी. इन्होंने इंटर तक की पढ़ाई पूरी करने के बाद लॉ की डिग्री भी हासिल की और उसके बाद यूपीएससी की परीक्षा देने का फैसला किया और मात्र 4 महीने मैं ही यूपीएससी (UPSC – Union Public Service Commission) की परीक्षा की तैयारी पूरी कर साल 2017 के यूपीएससी के परीक्षा के पहले ही प्रयास में पूरे ऑल इंडिया में 9 वी रैंक प्राप्त कर आईएएस अफसर बनकर अपने पूरे परिवार सहित देश का नाम भी रोशन कर दी.
यह भी पढ़े – IAS Success Story: पिता बेचते है सड़क किनारे ठेले पर पकौड़ा बेटी देखा नहीं गया पिता का दुःख मेहनत से पढाई करके पास की UPSC बनी IAS अधिकारी

IAS Success Story: आईएएस सौम्या शर्मा (IAS Saumya Sharma) का जन्म साल 1994 में भारत की राजधानी दिल्ली में हुई थी. उनके पिता का नाम अशोक शर्मा (Ashok Sharma) है. जो कि एक डॉक्टर है. एवं उनकी माता जी का नाम लीना शर्मा (Leena Sharma) है. जो कि वह भी एक डॉक्टर (Doctor) है. दोस्तो आपको हम बता दें कि आईएएस (IAS -Indian Administrative Service) सौम्या शर्मा ने अपनी इतनी बड़ी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को दि. आईएएस सौम्या शर्मा अभी वर्तमान समय में महाराष्ट्र कैडर के आईएएस अधिकारी है.
यह भी पढ़े – IAS Success Story: नौकरी के साथ करता था साइड से UPSC की तैयारी 2-3 घंटे करता था पढ़ाई लगातार 4 बार हुए असफल पांचवीं बार बने IAS