गुरु रहमान : मिलिये उनसे जिन्होंने गरीब बच्चों को आईएएस-आईपीएस बना दिया 11 रुपये की फीस में

: सब इंस्पेक्टर, आईएएस, आईपीएस, आईआरएस और सीटीओ अफसर बन चुके अदम्य अदिति गुरुकुल के सैकड़ों छात्रों के लिये गुरु रहमान एक ऐसे शिक्षक हैं जिन्होंने उनकी दुनिया बदल दी है। डॉ. मोतिउर रहमान खान कहते हैं- अमिता और मुझे कॉलेज में प्यार हो गया और उन्हें प्रभावित करने के लिये मैंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय में एमए में टॉप किया। लेकिन वह समय अलग था। हिंदू-मुस्लिम विवाह एक बड़ी समस्या थी।

हमने अपने माता-पिता की सहमति के बिना शादी कर ली। हम एक बात पर बहुत स्पष्ट थे कि हम में से कोई भी अपना धर्म बदलने वाला नहीं है और यह समाज द्वारा स्वीकार नहीं किया गया था। सभी ने हमारा बहिष्कार किया और मुझे कहीं भी नौकरी नहीं मिली। ऐसे में रहमान ने अपने छोटे से किराये के कमरे में अपनी कक्षाएं शुरू कीं, जहां छात्रों को फर्श पर बैठना पड़ता था। लेकिन उनके समर्पण ने उन्हें आज वहां पहुंचाया जहां हर एक व्यक्ति पहुंचने की तमन्ना रखता है।

एक पुलिस इंस्पेक्टर का बेटा होने के नाते वह हमेशा से एक IPS अधिकारी बनना चाहते थे। वह कई प्रतियोगी परीक्षाओं में भी बैठे। कुछ को पास भी किया था, इसलिये उन्होंने अपने छात्रों को यूपीएससी, आईएएस और बीपीएससी जैसी विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं और यहां तक ​​कि लिपिक पदों की परीक्षाओं के लिये कोचिंग देना शुरू कर दिया। वह तब सुर्खियों में आये जब 1994 में बिहार में 4,000 सब इंस्पेक्टरों की भर्ती हुई, जिनमें से 1,100 रहमान के क्लासेज से थे।


एक और घटना ने उनकी दशा और दिशा को बदल दिया। एक बार एक छात्र उनके पास केवल कुछ मार्गदर्शन के लिये आया था क्योंकि उसके पास पर्याप्त पैसे नहीं थे, लेकिन रहमान ने लड़के को प्रतिभाशाली पाया और उसे अपनी कक्षाओं में शामिल होने के लिये कहा। रहमान ने उस लड़के से, जिसने अपने पिता को खो दिया था, केवल 11 रुपये की फीस ली। यह छात्र शादिक आलम अब ओडिशा के नुआपाड़ा के जिला कलेक्टर हैं। इसके बाद, रहमान ने वंचित पृष्ठभूमि के अधिक छात्रों को लेना शुरू कर दिया और उन्हें केवल 11 रुपये में प्रशिक्षित करना शुरू कर दिया।


गुरु रहमान कहते हैं- मेरी अकादमी से 10,000 से अधिक छात्रों ने अध्ययन किया है। हर कोई अपनी भुगतान क्षमता के अनुसार किया। किसी ने मुझे कभी बेवकूफ नहीं बनाया। 2007 तक, रहमान को गुरु रहमान के नाम से जाना जाने लगा। उन्होंने अपनी अकादमी का नाम अपनी बेटी के नाम पर अदम्य अदिति गुरुकुल रखा। रहमान और अमिता भी धार्मिक सद्भाव के प्रतीक बन गये क्योंकि उन्होंने अपने बच्चों के नाम अदम्य अदिति और अभिज्ञान अरिजीत रखे। कभी टाइटल लगाने की सोची भी नहीं।

एक अन्य छात्रा, बिहार के पूर्णिया जिले के एक सेवानिवृत्त प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक की बेटी, मीनू कुमारी झा, एक IPS अधिकारी बनना चाहती थी। वह आज एक IPS अधिकारी है और उससे गुरु रहमान ने केवल 11 रुपये की फीस ली। प्राचीन इतिहास और संस्कृति में ट्रिपल एमए और पीएचडी, गुरु रहमान ने अब तक 10,000 से अधिक छात्रों को पढ़ाया है, जिनमें से 3,000 छात्रों को सब इंस्पेक्टर, 60 आईपीएस अधिकारी और 5 आईएएस अधिकारी के रूप में भर्ती किया गया है और कई अन्य आधिकारिक पदों पर हैं। .