AddText 07 25 12.30.32

अपने नाम की तरह दिलखुश कुमार सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हैं, इसके लिए इनकी कैब सर्विस बेटी पैदा होने पर जच्चा-बच्चा को सरकारी अस्पताल से घर तक की निःशुल्क सेवा देती है.

Also read: UPSC में सफलता पाने के लिए छोड़ दी नौकरी महज मेहनत और काबिलियत के दम पर हाशिल की सफलता

कैब सर्विस आज के समय का जाना-पहचाना नाम है, पर कैब सर्विस देने में बिहार में अभी तक बाहरी कंपनियों का हीं दबदबा था और उनकी सेवा शहर के लोग हीं ले पाते थे ऐसे में स्टेशन पर उतरने के बाद गांव जाने के लिए गाड़ी ना मिलने के कारण लोगों को काफी परेशानी होती थी | इस समस्या का समाधान निकाला बिहार ( Bihar ) सहरसा ( Saharsa ) का एक नौजवान ( Dikhush Kumar ) दिलखुश कुमार, जिनकी ‘आर्य गो कैब सर्विस’ बिहार ( Bihar ) के तीन जिला ( Saharsa ) सहरसा, मधेपुरा व सुपौल में कैब सेवा को पहुंचा रहा है, और जल्द हीं अपने आर्य गो कैब ( Arya Go Cab ) सर्विस का विस्तार पुरे बिहार और उत्तराखंड में करेंगे |

Also read: पहली बार में नहीं मिली सफलता नहीं मानी हार महज दुसरे ही प्रयास में UPSC पास कर बनी IAS अधिकारी…

बिहार ( Bihar ) सहरसा ( Saharsa ) के दूर दराज बनगांव में रहने वाले दिलखुश कुमार  ( Dilkhush Kumar ) जो कल तक एक कंस्ट्रक्शन कंपनी में काम करते थे, आज आर्य गो कैब कंपनी  ( Arya Go Cab )के मालिक हैं | दिलखुश कुमार ( Dilkhush Kumar ) के पिता प्राइवेट बस के चालक थे, लेकिन बिहार में ड्राइवरों को तनख्वाह नहीं मिलती जिसके चलते वे पलायन कर बड़े शहरों में काम की तलाश चले जाते हैं |

Also read: यूपीएससी का रिजल्ट आते ही टॉपर आदित्या रिजल्ट देखते ही पापा से बोले कुछ ज्यादा हो गया…उसके बाद दिया ये रिएक्शन?

और इसी पलायन को रोकने के लिए दिलखुश अपनी कंपनी आर्य गो कैब सर्विस को अक्टूबर, 2016 में शुभारंभ कर ड्राइवरों की दशा सुधरने का प्रयास कर रहे हैं | इसके अलावा जिनकी कार, बेकार पड़ी हुई हैं उनको भी अपने साथ जोड़ कर बिहार के तीन जिला सहरसा, मधेपुरा व सुपौल में कैब सेवा को पहुंचा रहे हैं | और दरभंगा व मुजफ्फरपुर में भी बहुत जल्द अपनी सेवा देने जा रहे हैं | दिलखुश कुमार ( Dilkhush Kumar )की आगे की योजना 2020 तक पूरे बिहार में अपनी कंपनी आर्य गो कैब  ( Arya Go Cab ) सर्विस का विस्तार करने का हैं |

Also read: जहाँ बच्चे बड़े-बड़े संसथान में रहकर पढ़ाई करने वाले नहीं पास कर पाए वहीँ कीर्ति ने सेल्फ स्टडी के दम पर पहले प्रयास में149वीं रैंक हाशिल की.

अपने नाम की तरह दिलखुश कुमार ( Dilkhush Kumar ) सामाजिक कार्यों में भी बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेते हैं | दिलखुश कुमार का मानना है कि मुनाफा के साथ-साथ समाजिक कल्याण के लिए भी काम किया जाना चाहिए | इसके लिए आर्य गो कैब ( Arya Go Cab ) बेटी पैदा होने पर जच्चा-बच्चा को सरकारी अस्पताल से घर तक की मुफ्त सेवा देती है साथ ही सैनिक-शहीदों के परिवार के लिए भी आकर्षक ऑफर देते हैं |

06 जून, 2018 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के युवा स्टार्ट्प्स से वीडियो कांफ्रेंस के जरिए बात की | इसमें दिलखुश की कंपनी आर्य गो कैब को भी शामिल किया गया, इस दौरान दिलखुश ने पीएम की बात सुनी | हालांकि समय अभाव के कारण करीब एक घंटा तक ही पीएम ने युवाओं को संबोधित किया

सोनू मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर जिला के रहने वाले है पिछले 4 साल से डिजिटल पत्रकारिता...