AddText 07 24 06.10.30

वॉशिंगटन, जून 25: जब तक इस दुनिया में मुट्ठी भर अच्छे लोग भी मौजूद रहेंगे, ये दुनिया चलती रहेगी, हंसती रहेगी। अमेरिका की एक शख्स ने जो किया है, वो मिसाल से कम नहीं है। सोशल मीडिया के जमाने में देखते ही देखते लोगों की किस्मत पूरी तरह से बदल जाती है और अमेरिका के रहने वाले एक शख्स के साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ है। 20 साल के फ्रैंकलिन ने सपने में भी नहीं सोचा था कि सोशल मीडिया की वजह से उसकी पूरी जिंदगी बदल जाएगी।

Also read: यूपीएससी का रिजल्ट आते ही टॉपर आदित्या रिजल्ट देखते ही पापा से बोले कुछ ज्यादा हो गया…उसके बाद दिया ये रिएक्शन?

अमेरिका के ओकलोहामा के रहने वाले फ्रैंकलिन हर दिन 27 किलोमीटर का सफर पैदल तय करके काम करने जाते थे। महज 20 साल के फ्रैंकलिन के लिए ये कतई आसान नहीं था, लेकिन गरीबी ने उन्हें ऐसा करने पर मजबूर कर रखा था। फ्रैंकलिन बफेले वाइल्ड विंग्स में एक कुक के तौर पर काम करते हैं,

Also read: जहाँ बच्चे बड़े-बड़े संसथान में रहकर पढ़ाई करने वाले नहीं पास कर पाए वहीँ कीर्ति ने सेल्फ स्टडी के दम पर पहले प्रयास में149वीं रैंक हाशिल की.

लेकिन घर से बफेले वाइल्ड विंग्स तक पहुंचना फ्रैंकलिन के लिए आसान नहीं होता। एक तरफ की दूरी 13 किलोमीटर थी, लिहाजा घर से दफ्तर और दफ्तर से घर तक पहुंचने के लिए हर दिन फ्रैंकलिन को करीब 27 किलोमीटर का सफल तय करना पड़ता था।

Also read: पहली बार में नहीं मिली सफलता नहीं मानी हार महज दुसरे ही प्रयास में UPSC पास कर बनी IAS अधिकारी…

फ्रैंकलिन हर दिन अपने घर से 3 घंटे पहले निकलते थे। अमेरिकी न्यूज चैनल फॉक्स न्यूज से बात करते हुए फ्रैंकलिन ने कहा कि ‘मुझे फर्क नहीं पड़ता कि मैं थक रहा हूं या नहीं। मुझे हर हाल में अपने आप को आगे बढ़ाना था, क्योंकि मैं अपने घरवालों की नजर में गिरना नहीं चाहता था। और आजतक मैंने एक बार फिर अपनी शिफ्ट मिश नहीं की है।’

Also read: UPSC Result 2023: बिहार के लाल का कमाल भले लाख आया बाधा नहीं छोड़ा पढ़ाई पिता का हुआ निधन, डटे रहे अब बनेंगे अधिकारी!

फॉक्स न्यूज से बात करते हुए फ्रैंकलिन ने कहा कि उन्हें हर दिन इतना लंबा सफर तय करने के लिए उनकी मां से प्रेरणा मिलती है। फ्रेंकलिन ने कहा कि जब वो सिर्फ 16 साल के थे, तो उनकी मां गुजर गईं और उनके गुजरने के बाद उनके लिए चीजें काफी मुश्किल हो गईं थीं, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और अपने काम को जारी रखा।

फॉक्स न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले हफ्ते फ्रैंकलिन को रास्ते पर चलते हुए माइकल लिन नाम के एक शख्स ने देखा और फ्रैंकलिन को तपती धूप में रास्ते पर चलते देखकर माइकल ने उन्हें अपनी गाड़ी में लिफ्ट दे दी और फिर गाड़ी के अंदर दोनों की बातचीत शुरू हो गई। जब माइकल ने सुना कि वो हर दिन 27 किलोमीटर का सफर पैदल इस तपती घूप में तय करते हैं,

तो फिर उन्होंने फ्रैंकलिन की मदद करने की ठानी। माइकल ने फ्रैंकलिन की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्टकर उसके लिए मदद मांगी। जिसके बाद केरी कॉलिन्स नाम की महिला ने उनकी पोस्ट को देखा और चैरिटी चलाने वाले अपने पति को फ्रैंकलिन के बारे में बताया। और फिर सबने मिलकर फ्रैंकलिन की मदद करने की ठानी।

यह मामला 12 जून का है। कस्टमर ने न्यू इंग्लैंड के न्यू हैम्पशायर के लंदनडेरी के स्टंबल इन बार एंड ग्रिल में दो चिली डॉग, फ्राइड पिकल चिप्स और कुछ कॉकटेल का ऑर्डर दिया था। उसने खाना पीना खाकर बार टेंडर से वहां से जाने से पहले बिल पेमेंट करने के लिए कहा। बार टेंडर ने उसे बिल दिया। उसका बिल 2800 रुपए का बैठा। उसने हंसी-खुशी बिल का पेमेंट किया और बार टेंड़र से कहा कि इस पैसे को एक ही जगह पर खर्च मत करना।

इस परे घटनाक्रम पर बार के मालिक मिस्टर जरेला ने बताया कि शुरुआत में उन्हें इस बात पर विश्वास नहीं हुआ था। उन्हें लगा कि शायद उन्होंने रशीद में गलत राशि पढ़ ली है या फिर राशि भरने में कोई टाइपिंग मिस्टेक हुई है, लेकिन जब मेरे स्टाफ ने बताया कि यह मजाक नहीं है तब जाकर मुझे भरोसा हुआ। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में इतनी भारी टिप मिलने पर हमने उस कस्टमर का धन्यवाद दिया।

सोनू मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर जिला के रहने वाले है पिछले 4 साल से डिजिटल पत्रकारिता...