Indian Railway : जानिये क्या होता है LLB कोच और ICF कोच में अंतर?

दोस्तों भारतीय रेलवे दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है और इससे एक दिन में लाखों भारतीय अपना यात्रा की मजा लेते है | भारत देश में माना जाता है की भारत की सबसे बड़ी सफ़र करने का आसान तरीका ट्रेन को ही मान आजाता है क्यूंकि ट्रेन से सफ़र करने में किराए भी कम देने होते है |

Credit – Google

लेकिन आज के इस पोस्ट में हम आपको भारतीय रेलवे के बारे में बतायेंगे खास कर ट्रेन के बारे में…जी हाँ दोस्तों अगर आपसे कोई पूछे ट्रेन कितने प्रकार के होते है तो आप क्या जवाब देंगे…. दरअसल ट्रेन एक होती है एक्सप्रेस ट्रेन और एक होती है पैसेंजर क्या आपको पता है दोनों ट्रेन कब बनी थी और किस वर्ष बनी थी |

Credit – Google

और दोनों ट्रेन में क्या अंतर है एक ट्रेन होती है ब्लू वाली जो की सन 1952 में बनाई गई थी | और एक ट्रेन होती है लाल कलर की जिसे 2000 इश्वी के बाद बनाया गया था | और इन दोनों ट्रेन में सबसे मजबूत ट्रेन लाल वाली है जो की 2000 इश्वी के बाद निर्माण किया गया है |

Credit – Google

आपको बता डे की इस लाल वाले ट्रेन को माइल्ड स्टील के जरिये बनाया गया है जो की बहुत ही मजबूत होती है | और खासकर ये ट्रेन भविष्य को देखकर बनाया गया है और लाल वाली ट्रेन ब्लू वाली ट्रेन के अपेक्षा काफी मजबूत होती है | और ब्लू वाली ट्रेन के अपेक्षा लाल वाली ट्रेन काफी हल्का होता है |

Credit – Google

और साथ ही साथ आप यह भी जान ले की ब्लू वाली ट्रेन में एयर ब्रेक का प्रयोग किया जाता है जिसके कारण वह ट्रेन बहुत दुरी पर जाकर रूकती है | जिससे काफी समय का भी नुक्सान लोगों को सहना पड़ता है वहीँ लाल वाली ट्रेन में डिस्क ब्रेक का प्रयोग किया जाता है |

Credit – Google

और डिस्क बराक का यह खासियत होता है की जहाँ पर ब्रेक लगाया जाता है उसके कुछ ही दुरी पर गाड़ी रूक जाती है | और लाल वाली ट्रेन की एक खासियत और है लाल वाली ट्रेन ब्लू वाली ट्रेन की अपेक्षा बहुत कम आवाज करती है वहीँ ब्लू वाली ट्रेन बहुत आवाज करती है |

Credit – Google

आप सीधा-सीधा समझ लीजिये ब्लू वाले कोच को ICF कोच कहा जाता है और लाल वाली कोच को LLB कोच कहा जाता है |