दिल्ली से हरियाणा के लिए एक और 29 किलोमीटर का बिना सिग्नल एक्सप्रेसवे, NH-8 और एअरपोर्ट भी जुड़ा

अगले साल तक दिल्ली को एक और एलिवेटेड एक्सप्रेसवे की सौगात मिल जाएगी. दिल्ली से हरियाणा खेडकी धौला तक इस एक्सप्रेसवे का निर्माण किया जा रहा है. द्वारका एक्सप्रेस वे का काम जोर शोर से चल रहा है. बताया जा रहा है की इसमे रिकॉर्ड तोड़ स्टील और कंक्रीट का इस्तेमाल क्या जा रहा है. सूत्रों के माने तो इस द्वारका एक्सप्रेसवे में पेरिस की एफिल टावर से ज्यादा स्टील लगेंगे.

दिल्ली और हरियाणा को यातायात को ट्रैफिक फ्री बनाने के लिए इस द्वारका एक्सप्रेसवे के निर्माण में दुबई के बुर्ज खलीफा से भी ज्यादा कंक्रीट लगने का अनुमान है. इस द्वारका एक्सप्रेसवे के निर्माण में लगभग 2 लाख मीट्रिक टन स्टील लगेंगे और लगभग 20 लाख क्यूबिक मीट्रिक कंक्रीट का इस्तेमाल क्या जायेगा.

यह भी पढ़ें  दिल्ली गुरुग्राम राजीव चौक से सोहना के लिए Rs.100 से अधिक टोल चार्ज, 12 मिनट में 22 किलोमीटर

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी लगातार इस दिल्ली से हरियाणा जाने वाली एक्सप्रेसवे की तारीफ करते नजर आते है. उनका मानना है की इस एक्सप्रेसवे के बन जाने से दिल्ली और हरियाणा के अर्थव्यवस्था पूरी तरह से बदल जाएगी.

यह एक्सप्रेसवे 29 किलोमीटर लम्बी है. नेशनल हाईवे 8 (NH-8) दिल्ली से इसीकी शुरुआत होती है. द्वारका एक्सप्रेसवे का लगभग 10.1 किलोमीटर हिस्सा दिल्ली में आता है और लगभग 18.9 किलोमीटर हिस्सा हरियाणा राज्य में आता है. NH-8 के शिव मूर्ति से इसकी शुरुआत होती है. आगे चल कर यह एक्सप्रेसवे इंदिरा गाँधी एअरपोर्ट से जुड़ते हुए द्वारका सेक्टर 21 से निकल कर गुडगाँव के ओर बढ़ेगी.

यह भी पढ़ें  दिल्ली में जल्दी ही 1500 और इलेक्ट्रिक बस, इलेक्ट्रिक चार्जिंग का इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार, ई-रिक्शा को फायेदा.

दिल्ली हरियाणा के लिए द्वारका एक्सप्रेसवे दारका सेक्टर 21 से निकल कर गुडगाँव सेक्टर 83 होते हुए गुडगाँव सेक्टर 84 , गुडगाँव सेक्टर 88 , गुडगाँव सेक्टर 99 के साथ-साथ गुडगाँव सेक्टर 103 होते हुए हरियाणा के खेडकी धौला तक बिना रोके टोके जाएगी. इस एक्सप्रेसवे पर बारह हज़ार नए किस्म के पेड़ लगाये जा रहे है. ताकि पर्यावरण भी संरक्षित रहे.