दिल्ली धौलाकुआ से हरियाणा की हवाई यात्रा, पोड टैक्सी योजना अंतिम फेज में, ऊपर से देखिये पूरा गुडगाँव

दिल्ली और हरियाणा के विकास में एक और अध्याय जुड़ने जा रहा है. दोनों की सरकार साथ मीलकर आम जन मानस के जीवन सुविधा के लिए कदम से कदम मिलकर चल रही है. दिल्ली धौला कुआ से गुरुग्राम होते हुए मानेसर की ओर जाने वाली हवाई पोड टैक्सी की योजना लगभग आखिरी समय पर है. केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रलय (NHAI) के पांच सदस्य टीम ने दिल्ली गुडगाँव पोड टैक्सी पर अपनी रिपोर्ट सरकार को सौप दी है.

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने हरियाणा सरकार से मदद माँगा.

दिल्ली मानेसर जयपुर हरियाणा हाईवे पर भारी ट्रैफिक का दवाव रहता है. ऐसे में केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रलय ने धौला कुआ से मानेसर तक लिए हवा में उडती पोड टैक्सी की योजना बनाई थी. जिसकी रिपोर्ट अंतिम चरण में सरकार को दे दी गई है. NHAI (नेशनल Highway Authority of India) के वरीय अधिकारी राव इंद्रजीत सिंह ने बताया की मंत्री नितिन गडकरी ने इस योजना के लिए हरियाणा सरकार से सहयोग मांगी है.

यह भी पढ़ें  दिल्ली में देना होगा ज्यादा प्रॉपर्टी टैक्स, नार्थ दिल्ली और ईस्ट दिल्ली में मॉल, सिनेमा हॉल, शौपिंग काम्प्लेक्स टैक्स बढे

पोड टैक्सी बनाने के लिए कई प्राइवेट कम्पनी से चल रही है बात

इस योजना पर काम करने के लिए केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय और कई प्राइवेट कंपनियों के बीच बात चल रही है. इस पोड टैक्सी को बनाने में कुल 5000 करोड़ रूपये का खर्च आएगा. गुरुग्राम के सांसद राव इंद्रजीत सिंह ने कहा है की हमारी सरकार हरियाणा के मौजूदा हरियाणा सरकार के बीच इस प्रोजेक्ट को लेकर कई दिनों से सलाह मसवरा चल रहा है. जल्द ही इसको पूरा कर लिया जायेगा.

सभी स्टेशन पर नहीं रुकेगी पोड टैक्सी

दिल्ली गुरुग्राम पोड टैक्सी का आवागमन रोप वे की तरह होगा. एक पोड टैक्सी एक स्टेशन पर रुकेगी तो उसके पीछे वाली पोड टैक्सी उस स्टेशन पर नहीं रुकेगी , पीछे वाली टैक्सी आगले स्टेशन के लिए आगे बढ़ जाएगी . सभी पोड टैक्सी का अपना एक फिक्स्ड डेस्टिनेशन होगा. वो टैक्सी सिर्फ वही रुकेगी. बाकि स्टेशन पर नहीं रुकेगी. यह योजना पर्यावरण को भी नुकसान नहीं पहुचायेगी.

  • इस पोस्ट के कुछ महत्वपूर्ण बिंदु.
  • दिल्ली गुरुग्राम मानेसर पोड टैक्सी अंतिम चरण में.
  • गुरुग्राम सांसद राव इन्द्रजीत सिंह ने बताया की नितिन गडकरी ने हरियाणा सरकार से सहयोग माँगा है.
  • इस प्रोजेक्ट को बनाने में 5000 करोड़ रूपये खर्च होंगे.
  • यह योजना पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुचायेगी.
  • एक पोड टैक्सी एक स्टेशन पर रुकेगी तो उसके पीछे वाली सेम स्टेशन पर नहीं रुकेगी. पीछे वाली आगे बढ़ जाएगी.
यह भी पढ़ें  दिल्ली में नई Maruti Wagon R CNG Car 1 लाख डाउनपेमेंट देकर घर लाये, 35 km/kg की है माइलेज