PhysicsWallah : 75 करोड़ की नौकरी छोड़, 5000 रुपये में शुरू किया बच्चों को पढ़ाना, अब हैं 775 करोड़ के मालिक

दोस्तों किसी ने सच ही कहा है ईमानदारी और मेहनत के दम पर दुनिया में कितनी भी बड़ी से बड़ी मुकाम को हाशिल किया जा सकता है | आज आपको हम कुछ ऐसी ही कहानी है अलख पांडे की, जिन्होंने अपने सपनों के पीछे भागना बंद नहीं किया। उसी का नतीजा है कि जो शख्स कभी बच्चों को पढ़ाकर बमुश्किल 5000 रुपये की कमाई करते था, वो आज 700 करोड़ से अधिक की कंपनी के मालिक बन गए हैं। आईये जानते है इनके बारे में विस्तार से….

75 लाख का ऑफर ठुकड़ा दिया था |

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक अलख पांडे ने अपने मजबूत इरादों के दम पर मात्र 22 साल की उम्र में इंजीनियरिंग कॉलेज छोड़ने का निर्णय लिया और अपने गृह नगर इलाहाबाद (प्रयागराज) आ गए। उन्होंने इलाहाबाद में फिजिक्स पढ़ाने का काम शुरू किया, जिससे उन्हें शुरुआत में मात्र 5000 रुपये की मंथली कमाई होती थी। इस दौरान अलख को 75 लाख रुपये में Unacademy ज्वाइन करने का ऑफर मिला, लेकिन अलख पांडे ने 75 लाख रुपये के प्रस्ताव को ठुकरा दिया।

यह भी पढ़ें  लोग धड़ल्ले से खरीद रहे है रिमोट वाले स्मार्ट पंखे, बचाता है बिजली बिल भी जानिये खासियत...

अलख पांडे बताते हैं, तो उनका सपना फिजिक्स को बिल्कुल सरल शब्दों में बताने का था। जिससे भारत की वंचित आबादी को फिजिक्स की जानकारी मिल सके। अलख पांडे शुरुआत में यू-ट्यूब चैनल से स्टूडेंट्स को फिजिक्स पढ़ाते थे, उस वक्त अलख पांडे के मात्र 5,000 सब्सक्राइबर्स थे।

लेकिन उनकी सरल फिजिक्स को जल्द खूब सराहना मिली। उसी का नतीजा है कि आज अलख पांडे के YouTube चैनल के 6.91 मिलियन सब्सक्राइबर्स हैं। साथ ही अलख पांडे ने एड-टेक कंपनी फिजिक्सवाला की स्थापना की, जो बेहद कम वक्त में बहुत लोकप्रिय हो गया और उसे लोग बहुत ज्यदा पसंद करने लगे |

यह भी पढ़ें  बिहार बोर्ड ने जारी किया मैट्रिक का मार्कशीट प्रमाणपत्र, जाने कब से मिलेंगे स्कूलों में सर्टिफिकेट

अलख की कंपनी आज के वक्त में इंडिया की 101 वीं यूनिकॉर्न और पहली एडटेक कंपनी है, जिसमें काफी लोग पैसे लगाना चाहते हैं। पांडे की कंपनी ने वेस्टब्रिज और जीएसवी वेंचर्स से $100 मिलियन (लगभग ₹777 करोड़) जुटाए। जिससे कंपनी का मूल्य 1.1 बिलियन डॉलर हो गया। मौजूदा वक्त में फिजिक्सवाला में 500 शिक्षक और 90-100 तकनीकी पेशेवर समेत 1,900 लोग काम कर रहे हैं।