क्या दिल्ली से उठेगा पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला के हत्या की साजिश से पर्दा? पढ़ें बड़ा खुलासा

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल की कांउटर इंटेजलिस यूनिट और रोहिणी यूनिट स्पेशल सेल लंबे समय से पंजाब टेरर और पंजाब गैंगस्टर गतिविधियों पर नजर बनाए हुये हैं. सुरक्षा एजेंसियों और स्पेशल सेल के कई इनपुट में ये खुलासा हुआ है कि पंजाब के पुलिस कर्मी, पंजाब के पत्रकार भी गैंगस्टर के निशाने पर है.

लेकिन इस सब के बीच सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड के राज से पर्दा क्या दिल्ली से उठेगा यह बड़ा सवाल है.क्योंकि लॉरेंस विश्नोई, काला राणा, काला जठेड़ी, संपत नेहरा, जग्गू भगवनपुरिया ये तमाम एक ही कुनबे के गैंगस्टर दिल्ली की जेलों में बंद है. जिन्होंने पंजाब जरायम के दर्जनों राज सुरक्षा एजेंसियों के सामने खोल कर रख दिये है.

सुरक्षा एजेंसियों से जुड़े अधिकारी बताते है की जिस तरह बॉलीवुड में अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम और उसकी D कंपनी का दबदबा है, ठीक उसी तरह पंजाब म्यूजिक पंजाब फ़िल्म इंडस्ट्री मे पंजाब के गैंगस्टर सिक्का जमाने की होड़ में लगे है.

ये पहले चलन न के बराबर था, पर जिस तरह पंजाब में गन कल्चर बढ़ा, शायद ही कोई पंजाबी सिंगर होगा जिस के गाने में बंदूक खून खराबा का जिक्र न हो. दरअसल आपको बताते हैं आखिर क्यों पंजाब के सिंगर गैंगस्टर के निशाने पर हैं, और आखिर क्यों सिद्धू मूसेवाला गैंगस्टर की गोली का निशाना बने.

जिस तरह जगजाहिर है की पंजाब में दो गैंग्स एक दूसरे के जानी दुश्मन हैं. लॉरेंस बिश्नोई गैंग और दविंदर बमबीहा लेकिन बमबीहा की मौत के बाद इस गैंग की कमान आरमानिया में बैठे गैंगस्टर लकी पटियाल ने संभाली तो पंजाब की म्यूजिक और फ़िल्म इंड्रस्टी पर कब्जा करने या अपना दबदबा रुतबा कायम रखने और पैसे की चाह की खातिर बमबीहा गैंग ने अपनी म्यूजिक कंपनी खोल दी.

यह भी पढ़ें  क्या आपके भी फंसे है सहारा इंडिया में पैसे? भुगतान को लेकर पटना हाईकोर्ट ने तय की सुनवाई की तारीख

पंजाब की म्युजिक इंडस्ट्री पर कब्जे की लड़ाई

सूत्रों के मुताबिक ठग्स लाइट्स और गोल्ड मीडिया ने पंजाब की म्यूजिक इंडस्ट्री पर कब्जा जमाने के लिए सिंगर को धमकी देना शुरू की हथकंडे अपनाए, लेकिन वो वजह तो कोई नहीं जानता की आखिर कैसे पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला इस दोनों कंपनी के करीबी बने पर पंजाब के कई लोग इस बात से वाकिफ हैं. सिद्धू मुसेवाला ने इन दोनों कंपनियों के बैनर तले गाने गाए और जो काफी हिट रहे, इन दोनों कंपनियों से जुड़े अर्शदीप मनदीप धालीवाल भी एक तरह से बमबीहा गैंग से जुड़े थे. इन पर कई आपराधिक मुकदमे भी दर्ज हैं. जो सीधे तौर पर लकी पटियाल के लिए बसूली का काम करता है.

अगस्त 2021 में मोहाली पुलिस ने इसकी गिरफ्तारी की थी
यही वजह लॉरेंस विश्नोई खेमे को पंसद नहीं थी, वो भी इस तरह ही अपनी म्यूजिक कंपनी खोलना चाहते थे और पंजाब के गैंगस्टर पर अपना दबदबा कायम करना चाहते थे. जिसके लिए लॉरेंस ने अपने कॉलेज के दोस्त या बड़े भाई कह ले विक्की मुद्दुखेड़ा का इस्तेमाल किया यह कहना गलत नही होगा. विक्की के जरिये लॉरेंस बिश्नोई गैंग सिद्धू मूसेवाला पर दबाब बनाने की लगातार कोशिश कर रहे थे. सिद्धू ने लॉरेंस बिश्नोई गैंग की धमकी या यूं कहें उसके मन मुताबिक काम करने से इनकार कर दिया.

यह भी पढ़ें  सवाल : दुनिया का ऐसा कौन सा एकमात्र शहर है जहाँ की जनसंख्या जीरो है ?

पंजाब के इस मशहूर सिंगर मूसेवाला से लॉरेंस गैंग उसके गैंगस्टर ने वसूली की या नहीं, यह बात तो केवल सिद्धू ही जानते होंगे जो अब इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन यह बात पंजाब पुलिस, चंडीगढ़ पुलिस, दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल सब जानते हैं. कि पंजाब के गैंगस्टर पंजाबी सिंगर एक्टर्स से प्रोटक्शन मनी की डिमांड लगातार करते आए हैं. हर गैंगस्टर अपने खेमे में पंजाब के पापुलर सिंगर को करना चाहते हैं, वो किस शो में अपने गाने गाए वहां से मिलने वाला पैसे का कमीशन गैंगस्टर खेमे को जाए. ये बात भी किसी से छिपी नहीं है कि सिद्धू मूसेवाला का रुझान या उठना बैठना लकी पटियाल गैंग्स के साथ था.

यही वजह है जब विक्की का मोहाली में कत्ल हुआ. फिर उसके कातिल दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने पकड़े तो खुलासा हुआ था कि इस हत्याकांड के पीछे सिद्धू मूसेवाला का हाथ है. न्यूज़ 18 इंडिया ने अप्रैल के महीने में ही खुलासा कर दिया था की पंजाब के अकाली नेता विक्की की हत्या के पीछे पंजाबी म्यूजिक इंड्रस्ट्री में वर्चस्व की जंग एक मुख्य वजह है.

यह भी पढ़ें  ड्राइविंग लाइसेंस को लेकर परिवहन विभाग ने लिया बड़ा फैसला इन लोगों पर होगा सीधा असर

हमने लगभग सभी शूटरों की पहचान कर ली: मनासा एसएसपी

न्यूज18 इंडिया को मनसा के SSP गौरव तूरा ने बताया AK 47 इस्तेमाल हुआ इससे इंकार नही करते हम. हमने 3 गाड़ियां बरामद कर ली हैं, एक कोरोला, एक बुलेरो और तीसरी आल्टो हमलावरों ने मौका-ए-वारदात से आगे जाकर कोरोला कार छोड़ दी थी और एक राहगीर की आल्टो कार छीनकर भागे थे. हमलावरों ने कोरोला कार से सिद्दू के घर की कई बार रेकी की है, कई सीसीटीवी फुटेज हमें मिले हैं. अभी तक 3 तरह के हथियारों के इस्तेमाल के सबूत मिले हैं. केंद्रीय एजेंसियों का भी सहयोग ले रहे हैं.

अलग-अलग राज्यों की पुलिस से हम सहयोग ले रहे हैं हमले में 6-7 शूटर शामिल हैं. हत्या के पीछे गोल्डी बराड़ और लारेंस का ही हाथ है. इनकी एक हिस्ट्री है, खासतौर से विक्की की हत्या का बदला लेने के लिए सिद्दू की हत्या की गई. अभी तक हमने 3 लोगों को पकड़ा है, 2 को प्रोडक्शन वारंट पर लिया है, जबकि एक को देहरादून से पकड़ा है. सभी लारेंस बिश्नोई के मेम्बर हैं. गोल्डी बरार के ख़िलाफ़ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करवाएंगे. हम जल्दी ही बिश्नोई को अपनी कस्टडी में लेंगे. आगे गैंगवार न हो इस पर नजर बनाये हुए हैं.

source :- news18bihar