जिसे लोग समझ रहे थे गाँव की रहने वाली है अनपढ़ महिला, पर निकली वो IPS अधिकारी, सब दे रहे बधाई !

यूपीएससी की परीक्षा को अपने आप में सबसे कठिन और कड़ा एग्जाम माना जाता है | इस परीक्षा में देश के कोने-कोने से सम्मानित लोग बैठते है | और यह परीक्षा वही लोग पास कर पाते है | जो रात-दिन मेहनत और लगन से पढाई करते है | कसी ने सच ही कहा है आईएएस/आईपीएस के पद पर बैठने का सपना देखने वालों के लिए यूपीएससी कोई परीक्षा नहीं बल्कि तपस्या के समान है |

ऐसे ही आज हम आपको एक महिला के बारे में बताने जा रहे अहि जो अपनी मेहनत से आज सबको बता दी है कि मेहनत करने वाले की कभी हार नहीं होती है | जी हाँ दोस्तों दरअसल हम बात कर रहे है | गुजरात कैडर की तेज तर्रार आईपीएस अधिकारी सरोज कुमारी के घर ख़ुशी मनाने का दोगुना मौका है. सरोज कुमारी ने एक साथ दो जुड़वा बच्चों को जन्म दिया है. इनमे से एक बेटा व एक बेटी है. इस बात की जानकारी खुद आईपीएस सरोज कुमारी ने अपने फेसबुक अकाउंट पर यह शेयर करके दी है |

यह भी पढ़ें  बिहार की बेटी ऋषिता ने बढाई बिहार का मान CLAT परीक्षा में हाशिल की 48वां रैंक बनी बिहार टॉपर

आईपीएस अधिकारी सरोज कुमारी ने अपने दोनों नवजात बच्चों की फोटो शेयर करते हुए लिखा कि भगवान ने आशीर्वाद स्वरूप बेटा-बेटी दिए हैं. अधिकारी कुमारी द्वारा शेयर की गई अपनी पहली संतान की यह तस्वीर सोशल मीडिया पर काफी तेज़ी से वायरल हो रही है. अब लोग उन्हें बधाइयाँ दे रहे है |

सरोज ने अपनी पढाई अपने गाँव की सरकारी विद्यालय से ही ली है | बता दे कि आईपीएस सरोज कुमारी का जीवन संघर्ष उन लोगों के लिए एक मिसाल है जो ये सौचते है कि, सरकारी स्कूलों में पढ़कर कुछ नहीं किया जा सकता. सरोज कुमारी ने अपनी शुरुआती पढ़ाई गांव बुडानिया के सरकारी स्कूल से पूरी की है. वह वर्ष 2011 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं. इसके साथ ही वह इकलौती आईपीएस अधिकारी हैं, जो माउंट एवरेस्ट फतह करने के मिशन में शामिल हुई थी.

यह भी पढ़ें  मदर्स दिवस पर बड़े उद्योगपति आनंद महिंद्रा ने इडली अम्मा को गिफ्ट किया 1 करोड़ का घर

गुजरात पुलिस की आईपीएस अधिकारी सरोज कुमारी ने अपने जानदार काम से अपनी पहचान बनाई है. जब वह बोटाद एसपी थीं तब कई महिलाओं को उन्होंने जिस्म फरोशी के जाल से बचाया था. वहीं वडोदरा में बारिश के दौरान लोगों को रेस्क्यू करते हुए भी इनकी तस्वीरें काफी वायरल हुईं थी |