पेट में था बच्चा नहीं मानी हार दर्द के बीच में भी दी UPSC की परीक्षा, बनी कमिश्नर सब दे रहे बधाई

दोस्तों यूपीएससी की परीक्षा पास कर लेना उतना आसान नहीं होता इस परीक्षा में देश भर के बच्चे बैठते है | यह परीक्षा अपने आप में सबसे कठिन और कड़ा एग्जाम माना जाता है | अभी के समय के हर युवाओं की सपना होता है कि वो आईएस बने वह भी यूपीएससी की परीक्षा पास करें | लेकिन आज हम आपको एक ऐसी लड़की के बारे में बताने जा रहे है | जिसके पेट में बच्चा था लेकिन उसके बाद भी वह हार नहीं मानी और आखिर में उसको सफलता मिल ही गया | और बता दे कि उसने दो बार असफल होने के बाद भी नहीं मानी हार तीसरी बार में पास की यूपीएससी की सफलता |

यह भी पढ़ें  शरीर से विकलांग होने के बाबजूद भी नहीं मानी हार गरीबी का पीड़ा भी नहीं हरा पाया बनी आईएस

दरअसल हम बात कर रहे है हरियाणा के इज्जर जिले के रहने वाली पूनम दलाल दहिया के बारे में जिसने अपने कठिन परस्थिति गर्भवती होने के बाबजूद भी नहीं मानी हार और पूरा किया अपना सपना आज पूनम दलाल देश के उन हजारों महिलाओं के लिए प्रेरणा बन गई है | जो सोचती है कि महिलाए कुछ नहीं कर सकती जी हना दोस्तों ऐसी महिला जो गर्भवती होने के बाद भी नहीं मानी हार जिद मेहनत लगन से पाई सफलता | वहीँ आपको बता दे कि यूपीएससी में सिलेक्ट होने से पहले पूनम दलाल हरियाणा में डीएसपी के पद पर भी रही हैं। फिलहाल वह इंकम टैक्स विभाग में अस्सिटेंट कमिश्नर के पद पर कार्यरत हैं।

यह भी पढ़ें  UPSC, BPSC, IAS की तैयारी के लिए गंगा किनारे होती है डेली क्लास सभी बच्चों को होगी पुरे 25000 रूपये की बचत

यहां बात कर रहे हैं हरियाणा के झज्जर जिले की रहने वाली पूनम दलाल दहिया की। जिन्होंने गर्भवती होते हुए भी यूपीएससी की परीक्षा दी और उसे पास करने का अपना सपना पूरा कर लिया। पूनम दलाल दहिया देश की उन हजारों महिलाओं के लिए किसी प्रेरणा से कम नहीं हैं, जोकि जरा सी मुश्किल आते ही हौंसला छोड़ देती हैं। मगर पूनम दलाल ने अपने जज्बे और हौंसले को कभी कम नहीं होने दिया।

यूपीएससी पास कर मिली आरपीएफ की रैंक :

पूनम दलाल तीन बार परीक्षा दी बता दे कि पहली बार में उसको कम रैंक आया उसके वजह से उसे रेलवे में आरपीएफ की रैंक मिली जिसे वो स्वीकार नहीं कि उसने फिर से तैयारी करने का मन बना लिया फिर दूसरी बार में उसको उतना अच्छा रैंक नहीं मिला और उसे रेलवे का रैंक मिला ये इसको भी ठुकड़ा दी और एक बार और फिर से तैयारी में जुट गई लेकिन तीसरी बार में इसका सपना पूरा हो गया और इसे कमिश्नर के पद पर नौकरी मिला |

यह भी पढ़ें  UPSC परीक्षा में बिहार की बेटियो का रहा जलवा मधेपुरा की अंकिता को मिला दूसरा रैंक तो औरंगाबाद की सुब्रा को मिला 197 रैंक