सफलता की कहानी : कभी 50 रु. के लिए करते थे संघर्ष, UPSC क्वालिफाई कर बने असिस्टेंट कमिश्नर, टीचर ने की तारीफ

UPSC (Union Public Service Commission) की इम्तिहान को अपने आप में सबसे कठिन और कड़ा इम्तिहान माना जाता है | असंभव की भी एक न एक दिन शुरुआत करनी ही पड़ती है | और जब उसे सफलता मिलती है तो वही शख्स आने वाले पीढ़ी के लिए मार्ग दर्शन का कारण बनते हैं. आनंद कुमार के सुपर-30 से सभी परिचिति होंगे. मैथमेटिशियन आनंद कुमार ने कई छात्रों की जिंदगी को पर दिया है. हाल ही में उन्होंने अपने एक स्टूडेंट को लेकर ट्वीट किया. वह स्टूडेंट उनसे मिलने पहुंचा था.

जैसा की आप देख सकते है. आनंद कुमार ने उसकी फोटो शेयर करते हुए कहा, कभी 50 रुपये के लिए संघर्ष करने वाला मेरा शिष्य कृष्ण राय लड़का अब UPSC (Union Public Service Commission) क्वालिफाई कर लिया है. असिस्टेंट कमिश्नर बनने के बाद मुझसे मिलने आया. मुझे शिक्षक होने पर गर्व है. बता दें कि आनंद कुमार सुपर-30 को फाउंडर हैं. इसके हर जरिए वह हर साल 30 बच्चों को सिलेक्ट करके उन्हें आईआईटी की तैयारी कराते हैं. उनके ऊपर फिल्म भी बन चुकी है. इस फिल्म में आनंद कुमार के रोल में ऋतिक रोशन हैं.

यह भी पढ़ें  शरीर से विकलांग होने के बाबजूद भी नहीं मानी हार गरीबी का पीड़ा भी नहीं हरा पाया बनी आईएस

आपको बता दे की आनंद कुमार गरीब के बच्चों के लिए किसी मसीहा से कम नहीं हैं. उनके पढ़ाए बच्चों का भी मानना है कि उनकी जिंदगी में आनंद कुमार नहीं आए होते तो आज वह जहां हैं, वहां तक नहीं पहुंच पाते.

यह भी पढ़ें  ऐश्वर्या श्योरेन ने किया टॉप मिस इंडिया फाइनलिस्ट बनने के बाद चुना UPSC का रास्ता और बन गईं IFS