पहले दिन 25 हजार से अधिक अभ्यर्थियों को मिले नियुक्ति पत्र जानिये पूरी खबर…

बिहार में नए निर्वाचित होने वाले 40 हजार से अधिक शिक्षकों की प्रतीक्षा अब समाप्त हो चुकी है जी हाँ दोस्तों आपको बता दे कि बुधवार से इन चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र उनकी नियोजन इकाई द्वारा दिए जाएंगे। नियुक्ति पत्र के साथ ही शिक्षकों को पदस्थापन वाले विद्यालय भी आवंटित होंगे। योगदान की तिथि से वेतन आदि देय प्रभावी होगा। शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी के मुताबिक नियुक्ति पत्र मिलने के तत्काल बाद शिक्षक अपना योगदान दे सकते हैं। नियोजन इकाइयों द्वारा चयनित शिक्षकों को नियुक्ति पत्र देने के दौरान इस बात का ध्यान रखा गया है कि पदों के अनुरुप सबसे पहले दिव्यांग शिक्षकों को उनकी इच्छा के आधार पर विद्यालय मिले। इसके बाद महिला शिक्षकों को उनकी इच्छानुसार विद्यालय में पदस्थापना सुनिश्चित हो।

यह भी पढ़ें  जानिये बिहार के कोने-कोने में क्या है पेट्रोल-डीजल का दाम कहीं है महंगा तो कहीं सस्ता देखे लिस्ट...

पटना जिले को मिल गये 1338 नये शिक्षक

लंबे इंतजार के बाद छठे चरण की शिक्षक नियुक्ति प्रक्रिया पटना जिले में पूरी कर ली गयी. जिले भर में प्राथमिक और मध्य विद्यालय के लिए 1338 चयनित अभ्यर्थी को नियुक्ति पत्र बांटा गया. प्रखंड स्तर पर इसमें 1213 अभ्यर्थी शामिल हुए. वहीं, पटना नगर निगम क्षेत्र के प्राथमिक और मध्य विद्यालय के लिए 125 अभ्यर्थी को नियुक्ति पत्र दिया गया. नियुक्ति पत्र प्राप्त करने वाले सभी शिक्षक अभ्यर्थियों को जल्द ही विद्यालय ज्वाइन करना होगा. नियुक्ति स्थल पर सुबह से भीड़ लगी हुई थी. नियुक्ति में शामिल शिक्षक अभ्यर्थी अपने पूरे परिवार के साथ पहुंचे हुए थे. नियुक्ति पत्र मिलने के साथ ही लोगों में उत्साह देखते बन रहा था.

यह भी पढ़ें  Bihar Weather : बिहार में मानसून के प्रवेश होने के बाद भी नहीं हो रही बारिश, जुलाई महीने से वर्षा बरसने की उम्मीद

चयनित शिक्षक अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र दिया गया

नियुक्ति पत्र को लेकर सभी लोग अपने बच्चों व परिवार के साथ खुशियां मनाते हुए दिखे. यह माहौल कन्या मध्य विद्यालय अदालतगंज का था. यहां पर पटना नगर निगम का नियुक्ति पत्र बांटा जा रहा था. इसमें सबसे अधिक महिलाएं थीं. नियुक्ति पत्र लेने के बाद कई लोग स्कूल देखने चले गये और कई लोग पार्टी करने के लिए होटल और रेस्त्रां में पहुंच गये |

सबसे पहले लोगों को मेरिट के आधार पर विद्यालय चयन करने को कहा गया. प्राथमिकता के आधार पर दिव्यांग वर्ग की महिलाओं इसके बाद एससी-एसटी को विद्यालय चयन का मौका दिया गया. आरक्षण के आधार पर विद्यालय चयन का भी मौका दिया गया. साथ ही पटना जिले के विभिन्न नियोजन इकाई में काउंसेलिंग के बाद चयनित शिक्षक अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र दिया गया |