बिहार के लोगों को बंगाल का सफर होगा सुहाना और आसान इस रूट पर बनेंगे 9 नए रेलवे स्टेशन

विकाशशील बिहार को बेहतर बनाने के लिए सरकार अपनी और से हर कोशिश करती है | बता दे की हाल ही में कुछ दिन पहले केन्द्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट पेश की है | इस बजट में रेलवे के परियोजनाओ पर काफी बल दिया गया है | कुछ नए प्रोजेक्ट शुरू किया जाएंगे तो कुछ पुराने प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य में तेजी आएगी।

कई सारी परियोजनाओं के लिए कुछ नए प्रोजेक्ट शुरू किया जाएंगे तो कुछ पुराने प्रोजेक्ट के निर्माण कार्य में तेजी आएगी। कई सारी परियोजनाओं के लिए बजट जारी किया गया है। ऐसे ही एक अररिया- गलगलिया रेल परियोजना के निर्माण कार्य में अब तेजी आएगी। इस रेलवे रोड पर करीब 9 रेलवे स्टेशन का निर्माण किया जाएगा।

इन स्टेशनों का होना है निर्माण

जानकारी के मुताबिक जिले में 47.60 किमी रेल लाइन बनना है। इस रेल खंड पर अररिया कोर्ट, अररिया आरएस, रहमतपुर, बांसबाड़ी, खवासपुर, लक्ष्मीपुर, बरदाहा, कलियागंज व टेढ़ागाछी में स्टेशन बनना है। इस रूट के खुल जाने से बिहार से बंगाल और पूर्वोत्तर राज्यों का सफर और आसान हो जाएगी।

खवासपुर से लक्ष्मीपुर और बैजनाथपुर के बीच भुगतान नहीं होने के कारण काम बाकी तो है, लेकिन रेल लाइन पर अररिया कोर्ट, अररिया आरएस, रहमतपुर, बांसवाड़ी, खवासपुर, लक्ष्मीपुर, बरदाहा, कलियागंज और टेढ़ा गाछी में स्टेशन बनाने का प्रस्ताव है।

वहीँ आपको बता दे की बिहार के अररिया-गलगलिया रेल लाइन के जरिए सिलीगुड़ी के रास्ते पूर्वोत्तर राज्य जाना भी सुगम हो जाएगा। इस रेल लाइन पर ट्रेनें चलने पर सीमांचल और और बिहार के शोक नदी के नाम से प्रसिद्ध कोसी के लोग घंटे भर में ही बंगाल पहुंच जाएंगे। खासतौर पर बिहार के किशनगंज अररिया और पूर्णिया की दूरी बंगाल से बेहद कम हो जाएगी। इन जिलों के बॉर्डर से बंगाल सटा है। उम्मीद है की यह सारे प्रोजेक्ट पर की जाने वाले काम को इसी साल पूरा कर लिया जाएगा |