नए साल में सुबह 5 बजे से रात्रि 11 बजे तक खुला रहेगा पटना का महावीर मंदिर, जानें कैसे होगी एंट्री

बिहार की राजधानी पटना जंक्शन महावीर मंदिर में नए साल पर श्रद्धालुओं की सबसे अधिक भीड़ लगती है। महावीर मंदिर पटना न्यास प्रमुख आचार्य किशोर कुणाल के अनुसार , आम शनिवार के मुकाबले दोगुने से तीन गुने लोग नए वर्ष के पहले दिन पहुंचते हैं। रामनवमी के बाद सबसे अधिक भीड़ नए वर्ष के पहले दिन ही जुटती है। इस बार भी लगभग 3 लाख श्रद्धालुओं के पहुंचने की संभावना है।

पिछले साल भी नए साल के पहले दिन 2 लाख से अधिक श्रद्धालु दर्शन के पहुंचे थे। बता दे की यहाँ लोग हर दिन पंहुचते है और भगवान् हनुमान जी को प्रशाद चढाते है | और यह मंदिर पटना जंक्शन के ही कैंपस में है यहाँ हर दिन श्रद्धालुओं के लिए प्रसाद भारी मात्र में वितरण किया जाता है |

यह भी पढ़ें  गुड न्यूज़ : पटना होते हुए मुजफ्फरपुर दरभंगा एयरपोर्ट तक चलेगी इलेक्ट्रिक बसे जानिए किराया

बता दे की इस बार बिहार की राजधानी पटना के महावीर मंदिर सहित सभी छोटे-बड़े मंदिरों के दरवाजे भक्तों के लिए पहले की तरह खोल दिये गए हैं। पूजा-अर्चना शुरू हो गई है। महावीर मंदिर में  सुबह पांच बजे से रात 11 बजे तक श्रद्धालु पूजा-अर्चना कर सकेंगे। मंगलवार को भक्तों ने जयकारा लगाकर विश्वमंगल की कामना की और मंत्र और आरती से परिसर गुंजायमान होता रहा। भक्तों में मंदिर परिसर के पूर्णावधि में खुलने की प्रसन्नता देखी गई।

बिना मास्क के नहीं मिलेगी एंट्री

मंदिर परिसर में थर्मल चेकिंग के बाद ही प्रवेश मिलेगा। साथ ही एंट्री गेट पर ही भक्तों को सेनेटाइजर से हाथ स्वच्छ करना होगा। बिना मास्क के किसी की एंट्री नहीं होगी। बुधवार से यह व्यवस्था अमल में ला दी गयी। आचार्य किशोर कुणाल ने बताया कि कोरोना को लेकर सामाजिक दूरी के सामान्य नियम मंदिर परिसर में प्रभावी रहेंगे। लेकिन अब मंदिर परिसर सुबह पांच बजे से रात 11 बजे तक भक्तों के लिए खुला रहेगा। 

यह भी पढ़ें  बिहार की बेटी : घर बैठे की पढाई सेल्फ स्टडी के बदौलत पहले प्रयास में मिला सफलता बनी दरोगा

भीड़ को नियंत्रित करने के लिए भारी संख्या में रहेगी गार्ड

बता दे की नया साल के दिन पटना के महावीर मंदिर पर काफी अधिक संख्या में श्रद्धालुओं आते है | इसी लिए श्रद्धालुओं की भीड़ को नियंत्रित रखने और सहूलियत के लिए निजी गार्ड के साथ मंदिर की तरफ से 70 पुरुष और 30 महिला पुलिस कर्मियों की तैनाती मांग की गयी है। साथ ही करीब 16 सीसीटीवी कैमरे से भी नजर रखी जाएगी। सभी श्रद्धालुओं को बिना मास्क के मंदिर में प्रवेश नहीं मिलेगा।