ऐसी आस्था आपने कभी नहीं देखी होगी, जानिए कैसे हनुमान जी के भक्त हो गए मोहम्मद अनीस

गोंडा में श्रीराम भक्त बजरंगबली में ऐसी आस्था की देखने को मिली है जहां एक गांव बुराइयों को छोड़कर भक्ति में डूब गया है, यही नहीं हनुमान की भक्ति में डूबे एक व्यक्ति ने इस्लाम धर्म छोड़कर हिन्दू धर्म स्वीकार कर लिया और अब दिन रात बजरंगबली की भक्ति व सेवा में डूबा रहता है।ये सब तब हुआ जब पुलिस के एक रिटायर दरोगा ने गांव में हनुमान जी का मंदिर बनवाया। मंदिर बनने के बाद इस गांव के लोगों में आलौकिक परिवर्तन हुआ और कच्ची शराब के नशे में रहने वाले युवा व बुजुर्ग नशे को त्यागकर अब हनुमान जी भक्ति में डूबे रहते हैं। 

यह भी पढ़ें  मात्र 22 साल की उम्र में IAS बनी आर्मी के बेटी UPSC में हाशिल की चौथा रैंक हर तरफ हो रही तारीफ़

गोंडा के परसपुर के लायकपुरवा गांव में हनुमान मंदिर बनने के बाद यहां के ग्रामीण बजरंगबली की भक्ति में ऐसे रच बस गए कि उन्होंने तमाम व्यसनों को छोड़ दिया है। जिससे यह क्षेत्र अब चर्चा का विषय बना हुआ है। यहीं नहीं यहां चर्चा का विषय एक ऐसा भक्त भी है जो

हनुमान जी भक्ति ऐसा डूबा कि उसने इस्लाम धर्म छोड़कर मुस्लिम से हिन्दू बन गया और मोहम्मद अनीस से शुक्राचार्य हो गए। जैसे ही मोहम्मद अनीस ने बजरंगबली के चरणों की शरण ली वैसे इसके मन के अंदर परिवर्तन हुआ और सब बुराइयों को त्यागकर मोहम्मद अनीस से हनुमान भक्त शुक्राचार्य हो गए।

यह भी पढ़ें  मां ने बेटे को भेजा अनाथालय, कड़ी मेहनत से पढ़ाई कर बदली किस्मत और बना IAS अधिकारी

यहां के लोगों में ह्रदय परिवर्तन का काम किया योगीराज कुँवरनाथ ने…योगिराज कुँवरनाथ भगवा रंग ओढ़ने से पहले पुलिस विभाग में दरोगा थे। यानि मोहम्मद अनीस। इनकी आखिरी पोस्टिंग अयोध्या में थी अयोध्या में रहते हुए ही इनमें हनुमान जी की भक्ति जगी दरोगा के पद से रिटायर होने बाद गांव लौटे और रिटायर होने पर मिली

रकम से एक मंदिर का निर्माण कराया। इसके बाद ग्रमीण जो गलत रास्ते पर थे , शराब पीने का काम , लड़ाई- झगड़ा करने मशगूल रहते थे उन्हें सुधारा और रामभक्ति व हनुमान भक्ति के पावन कार्य मे लगा दिया। बाबा का कहना है पुलिस विभाग के 40 वर्षों की सेवा का फल मिल रहा है। जब से गांव में मंदिर का निर्माण हुआ है तब से यहां के लोगों में काफी परिवर्तन आया है।
 

यह भी पढ़ें  IIM पासआउट अंकिता ने अमेरिका की नौकरी छोड़ी: पिता के साथ डेयरी फार्मिंग का बिजनेस शुरू किया, आज सालाना 90 लाख रुपए का टर्नओवर