बिहार के सरकारी स्कूलों में अब बच्चों को मिड-डे मील के साथ मिलेगा नाश्ता, 1 करोड़ 66 लाख छात्रों को मिलेगा योजना का लाभ

अब बिहार के विद्यालयों में मध्याह्न भोजन से पहले छात्रों को पौष्टिक नाश्ता देने का फैसला लिया गया है। बच्चों के स्वास्थ्य सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए सभी बच्चों का स्वास्थ्य सर्वेक्षण कर उनका हेल्थ कार्ड बनाने की योजना बनाई गई है। विद्यालयों में बच्चों की सेहत का ध्यान रखते हुए मध्याह्न भोजन से पहले नाश्ता देने की योजना को सहमति दी है.

अभी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को सिर्फ मध्याह्न भोजन ही दिया जाता है। हालांकि सुबह का नाश्ता देने की शुरुआत अभी ऐसे जिलों से की जाएगी, जो कुपोषण से सबसे ज्यादा प्रभावित हैं। इसकी तैयारी तेजी से शुरू हो गई है। इसके तहत सभी बच्चों का हेल्थ कार्ड भी तैयार होगा। यूनिसेफ की मदद से बच्चों की सेहत का सर्वेक्षण भी कराया जाएगा।

  • बिहार के 72 विद्यालयों लागू होगी योजना
  • छात्रों का बनेगा हेल्थ कार्ड
  • 1 करोड़ 66 लाख छात्रों को मिलेगा योजना का लाभ
यह भी पढ़ें  जिस दादी ने जाना ही नहीं स्कूल क्या होता है वह आज अपने किचन से कमा रही हैं लाखो रुपये !

बच्चों को मिलने वाला नाश्ता स्कूल के किचन में तैयार नहीं किया जाएगा. यहां दिए जाने वाले रेडिमेड तैयार नाश्ते को क्षेत्रीय स्वयंसेवी या महिला संगठनों की मदद से तैयार कराया जाएगा. दिए जाने वाले पैक्ड फूड में  बच्चों को जितनी पोषण मिलनी चाहिए उसके हिसाब से तैयार किया गया जाएगा. हालांकि यह किसी कंपनी का उत्पाद नहीं होगा। हेल्थ कार्ड और नाश्ते की योजना के साथ मध्याह्न भोजन की योजना को विस्तार देने की भी तैयारी है।