बिहारवासियों के लिए गुड न्यूज़ : सासाराम से आरा के रास्‍ते राजधानी पटना की दूरी महज ढाई घंटे में होगी पूरी…

बिहार के लोगों के लिए अच्छी खबर है | हमारा बिहार चौमुखी विकास कर रहा है | बिहार के विकास केलिए सरकार वो हर काम कर रही है जिससे बिहार का विकास संभव हो वहीँ एक अच्छी खबर निकलकर सामने आ रही है बिहार के सासाराम-आरा से राजधानी पटना आने-जाने वालों लोगों के लिए अच्छी खबर है। अभी सासाराम से पटना के सफर में पांच से छह घंटे लगते हैं, लेकिन अगले कुछ सालों में यह दूरी महज ढाई घंटे की रह जाएगी। अगर सब कुछ सही रहा तो नए साल 2022 के अंत तक पटना से आरा होते हुए सासाराम जाने के लिए फोरलेन सड़क का निर्माण शुरू हो जाएगा। इसकी प्रक्रिया तेज हो गई है। भोजपुर जिले में जमीन अधिग्रहण की प्रारंभिक कार्रवाई पूरी कर ली गई है।

उम्मीद है की उसका रिपोर्ट बहुत जल्द तैयार कर लिया जाएगा और आगे भेज दिया जाएगा | बता दू कि अभी तक इसकी रिपोर्ट तैयार हुई है कि नहीं इसको लेकर कोई जानकारी सामने नहीं आ रही है | फोरलेन के लिए 40 गांवों की कुछ-कुछ जमीन ली जाएगी। पीरो, तरारी, गड़हनी, चरपोखरी एवं उदवंतनगर अंचलाधिकारी ने खाता, खेसरा व रकबा की विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर ली है। वहीं, जमीन की प्रकृति की रिपोर्ट भू-अर्जन विभाग ने तैयार की है।

अधिकारियों का कहना है की पटना से आरा होते हुए सासाराम जाने वाली यह सड़क छह व चार लेन की होगी। यानी पटना से आरा तक यह सड़क छह लेन होगी तो आरा से सासाराम तक यह सड़क चार लेन की होगी। वैसे तो इस सड़क का अंतिम एलाइनमेंट अभी तय नहीं हुआ है, लेकिन प्रारम्भिक आकलन के अनुसार पटना जिले में यह सदीसोपुर-नौबतपुर के बीच से शुरू होगी। इसके बाद यह अरवल होते हुए सोन नदी पार कर भोजपुर के सहार में पहुंचेगा।

आपको बता दे की सोन नदी पार करने के क्रम में एक छह लेन का पुल भी बनेगा। सहार से यह सड़क बागड़-गड़हनी मौजूदा सड़क से गुजरेगी। इसके बाद यह पीरो, हसन बाजार, गड़हनी, विक्रमगंज, नोखा, संझौली होते हुए सासाराम से आगे सुअरा में जाकर एनएच दो यानी वाराणसी जाने वाली सड़क से जुड़ेगी।

और वहीँ सासाराम और आरा मार्ग से पटना, अरवल, भोजपुर, रोहतास व सासाराम जिले को जोड़ा जाएगा | बता दे की इससे ज्यदा लाभ बिहार के नौबतपुर, अरवल, सहार, नोखा, हसन बाजार, पीरो, नोखा व संझौली वाले लोगों को मिलेंगे | यह सड़क बन जाने से पटना से भोजपुर, अरवल, रोहतास, सासाराम होते हुए वाराणसी तक का सफ़र सुहाना हो जाएगा |

वहीँ इन सड़कों का चौड़ीकरण भी किया जाना है :

  • सुपौल व अररिया से होकर गुजरने वाली एसएच 92 यानी गणपतगंज-प्रतापगंज-छातापुर-परवाहा रोड (लंबाई 53.5 किमी)
  • सारण व सीवान होकर गुजरने वाली छपरा-मांझी-दरौली गुठनी रोड (71.6 किमी लंबी)
  • बक्सर की ब्रह्मपुर-इटरही-जलीलपुर रोड (80 किमी लंबी)
  • गया व नवादा होकर गुजरने वाली 41.6 किमी लंबी बानगंगा-जेठिया-बिंदुस रोड
  • भोजपुर की सड़क आरा-एकौना-खैरा-सहार रोड (32.3 किमी लंबी)
  • मधुबनी जिले की 41.1 किलोमीटर लंबी मधुबनी-राजनगर-बाबूबरही-खुटौना सड़क
  • मधुबनी व सीतामढ़ी होकर गुजरने वाली एसएच 52 सीतामढ़ी-पुपरी-गोगराहा-बेनीपट्टी सड़क का नए सिरे से निर्माण (51.35 किमी लंबी)
  • मुंगेर, भागलपुर व बांका होकर गुजरने वाली असरगंज-शंभूगंज-इंगलिश मोड़-धोरैया रोड (58 किमी लंबी)
  • मुजफ्फरपुर में एक पुल का निर्माण, हथौड़ी-अतरार-औराई रोड में 0.915 किमी लंबे पुल के निर्माण की योजना