ट्रेनों में सफ़र के दौरान 5 साल के भी छोटे बच्चों का रेलवे वसूलेगा पूरा किराया जाने नया नियम!

अगर आप भी भारतीय रेल में सफ़र करते है तो सफ़र करने से पहले जान लीजिये ये रेलवे का नया नियम जी हाँ दोस्तों आपको बता दे की हाल ही में रेलवे ने 5 साल के छोटे बच्चों के लिए भी आरक्षण बर्थ की सुविधा मुहैया की है, यानी कि अब 5 साल के छोटे बच्चे का भी पूरा टिकट लगेगा, चलिए विस्तार से जानते है। रेलवे के नए नियम के मुताबिक, 5 वर्ष से भी कम आयु के बच्चे को रेलवे पूरी बर्थ यानी सीट (Seat) मुहैया करवा देगी, बशर्तें आप उस पूरी सीट (Seat) का वयस्क का किराया देना होगा। भारतीय रेल ने 5 साल के छोटे बच्चों की सुविधा के लिए आरक्षण प्रणाली में इस तरह का व्यापक बदलाव किया है।

यह भी पढ़ें  GK सवाल : औरत का वह कौन सा रूप है जो सब देखते हैं सिवाय उसके पति के? जानिये जवाब

जानकारी के लिए बता दे की रेलवे में पिछले कई वर्षों से 5 वर्ष से लेकर 12 वर्ष की आयु तक के बच्चों को आधे किराए पर पूरी सीट दी जाती रही। अब इस नए नियम के बाद इस आयु वर्ग के बच्चों को वयस्क के किराए का भुगतान करने पर पूरी बर्थ उपलब्ध करवानी शुरू की गई।

इसके तहत आधा किराया देने पर नो बर्थ की सुविधा बनी रही। ऐसे में इस आयु वर्ग के बच्चों को अपने पेरेंट्स की सीट पर ही यात्रा करनी पड़ती थी, लेकिन अब रेलवे ने छोटे बच्चों की सुविधा में वृद्धि करते हुए पांच साल से छोटे बच्चों को भी पूरी सीट देने का फैसला किया है।

यह भी पढ़ें  कैपिटल एक्सप्रेस, जयनगर दानापुर साथ बिहार के इन आठ ट्रेनों का बदल गया टाइम टेबल, जानिये नए टाइम टेबल

यात्रियों के इस बात का ध्यान रखना होगा, बच्चे का आरक्षण करवाएं तथा वयस्क की सीट (Seat) का पूरा किराया रेलवे को अदा करें। हालांकि, पांच साल से कम आयु के बच्चे अभी भी अपने माता- पिता के साथ फ्री यात्रा कर सकते हैं। मगर यात्री अगर चाहे तो पूरी बर्थ के किराए का भुगतान कर अपने नन्हें-मुन्ने बच्चों को पूरी बर्थ के लिए आरक्षण करवा सकते हैं।