बिहार में बढ़ी प्याज की मांग, दस दिनों में डेढ़ गुनी हो गयी खपत, जानिये क्या है कारण

बिहार में पिछले दस दिनों में प्याज की खपत डेढ़ गुनी हो गयी है. बताया जा रहा है की इन दिनों बाजार समिति में रोज गुजरात, नासिक और इंदौर से करीब 900 टन प्याज उतर रहा है. दस दिन पहले तक 600 टन प्याज आ रहा था. प्याज कारोबारी कहते हैं कि ठंड के कारण मांग बढ़ी है. प्याज की खपत अब होली तक बढ़ी रहेगी. इसके बाद प्याज की खपत में कुछ कमी आयेगी. दुकानदारों का कहना है कि ठंड के मौसम में प्याज की खपत अधिक हो जाती है. बता दे की बिहार में सब्जिओ बनाने में प्याज़ का अबसे अधिक उपयोग किया जाता है |

यह भी पढ़ें  बिहार सरकार की नई योजना हर जिले में बनेगा हेलीपैड, रात्रि में भी लैंड कर सकेंगे हेलीकॉप्टर

आपको बता दे की इसके अलावा तली-भुनी चीजें भी ज्यादा खाते हैं, इसलिए प्याज की मांग बढ़ जाती है. बाजार समिति के आलू प्याज समिति के अध्यक्ष विजय चौधरी कहते हैं कि एक ट्रक पर करीब 30 टन प्याज लोड होता है. फिलहाल बाजार में 30 ट्रक रोज पहुंच रहा है. प्याज की कीमत भी बढ़ी हुई है. होलसेल मंडी में 2800 से 3000 रुपये क्विंटल प्याज मिल रहा है, लेकिन खपत अच्छी है. होली तक कीमत कम होने की गुंजाइश नहीं है |

मांसाहार भोजन के कारण बिक्री में इजाफा : जानकारी के अनुसार ठंड के मौसम में लोग मांसाहार भोजन अधिक कर रहे हैं. इस कारण प्याज की खपत बढ़ी हुई है. चिकेन दुकानदार मो खालिक कहते हैं कि पहले रोज वे 50-60 किलो चिकेन बेचते थे. अब रोज 80-90 किलो चिकेन निकल रहा है. इसके अलावा होटलों में भी चिकेन की अच्छी सप्लाई हो रही है |

यह भी पढ़ें  राजधानी पटना में अब स्टेशन पहुचने के लिए अंडरग्राउंड रास्ता, पूरे बिहारवासियो को मिलेगी सहूलियत देखिये प्लान