बिहार के लाल ने किया कमाल बना डाला बैटरी से चलने वाला स्कूटी और बाइक हर कोई कर रहा तारीफ़

जिस उम्र में लोग ठीक से दसवीं भी पास नहीं होते उस उम्र में इस लड़के ने एक ऐसा कारनामा करके दिखाया है जो हर कोई इसका तारीफ़ क्र रहा है | इलेक्ट्रिक वाहनों की मांग लगातार बढ़ रही है। जहां एक तरफ दिग्गज वाहन निर्माता कंपनियां इस सेग्मेंट में नित नए मॉडलों को पेश करने में लगी हैं वहीं आम लोग भी प्रयोग करने से नहीं चूक रहे हैं। ऐसा ही एक ताजा मामला दिल्ली से सामने आया है, जहां एक 15 साल के किशोर ने स्क्रैप पार्ट्स से इलेक्ट्रिक रॉयल एनफील्ड बाइक का निर्माण किया है। जानकारी के अनुसार इस बाइक को बनाने में लगभग 45 हजार रूपये की खर्च आई है |

यह भी पढ़ें  बिहार : शहरी इलाकों को मिलेगा जाम से निजात, सरकार ने इंजीनियरों से मांगी रिपोर्ट

दरअसल राजन बिहार के मुजफ्फरपुर जिले का रहने वाला छात्र है | जो की अभी दिल्ली के सर्वोदय बाल विद्यालय की  9 वीं कक्षा में पढता है। राजन ने मात्र तीन दिन में ही एक पेट्रोल से चलने वाली स्कूटी को इलेक्ट्रिक स्कूटी में तब्दील कर दिया है।यही नहीं कुछ दिन पहले राजन ने अपने पापा को एक बैटरी से चलने वाली रॉयल एनफील्ड गिफ्ट की थी।इस रॉयल एनफील्ड को बनाने में कुल 45000 रुपये खर्चा आया है यहीं ई – स्कूटी को बनाने में 35000 रुपये का खर्चा आया है।

राजन ने बताया पूरा प्लान

उन्होंने बताया कि एक पुरानी Royal Enfield बाइक को इलेक्ट्रिक मोटर के साथ जोड़ने के लिए स्क्रैप सामग्री का इस्तेमाल किया गया है। एजेंसी एएनआई से बात करते हुए, राजन ने कहा, “चूंकि मेरा स्कूल बंद था, इसलिए मुझे पास की मरम्मत की दुकान पर बाइक के तकनीकी पहलुओं के बारे में पता चला। फिर मैंने अपने माता-पिता को एक स्क्रैप डीलर और अन्य आवश्यक भागों से एक पुरानी बाइक खरीदने के लिए राजी किया, जिसकी कुल कीमत 45,000 थी।”

यह भी पढ़ें  बिहार : पेट्रोल और डीजल के दामों में भारी गिरावट, जानें बिहार के अलग-अलग जगहों की ताजा भाव?

 राजन का दावा है कि ये इलेक्ट्रिक बाइक सिंगल चार्ज में 100 किलोमीटर तक का ड्राइविंग रेंज देती है। इसके अलावा ये बाइक सिटी में 50 किलोमीटर प्रतिघंटा और हाइवे पर 80 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ सकती है। इस बाइक के बीच में लकड़ी का एक बॉक्स इंस्टॉल किया गया है, जिसमें बैटरी को रखा गया है। 

नोट : इस न्यूज़ को इंटरनेट पर उपलब्ध अन्य वेबसाइट से म‍िली जानकारियों के आधार पर बनाई गई है। firstbharatiya.com अपनी तरफ से इसकी पुष्‍ट‍ि नहीं करता है।