एक IAS ऑफिसर जिसने जनता की खूब सेवा की, ट्रांसफर होने पर लोगों ने कि हंगामा जाने फिर क्या हुआ

केरला के “पथानामथिट्टा” जिले ने पिछले दो साल में एक के बाद एक मुश्किल हालात झेले हैं। आपको बता बताने जा रहे हैं केरल के एक आईएएस ऑफिसर पीहू के बारे में जिन्होंने जनता की तन मन और धन से खूब सेवा की और उनका ट्रांसफर दूसरे जगह कर दिया गया और उसके बाद लोगों ने ट्रांसफर रुकवाने की प्रयास की ओर सरकार से अपील की |

और इन दिनों करोना के लेकर पीहू बहुत सुर्खियों में है क्योंकि वह लोगों को बहुत मदद करते हैं और लोग भी उनसे बहुत प्यार करते हैं और वह सिर्फ केरल के लोगों के लिए ही नहीं पूरे देश के दिलों के सुपरस्टार बन गए हैं |आईएएस पी.बी. नूह (IAS P.B. Nooh) एर्नाकुलम जिले के मुवातुपुझा के मूल निवासी हैं, जो कि केरल (Kerala) राज्य में हैंं।  पीहू बहुत ही गरीब परिवार के हैं और उनके पिता के पास एक राशन का दुकान है उसी से वह अपना भरण-पोषण करते हैं |

यह भी पढ़ें  मजदूर महिला का राजनीति में आना नहीं आया अपनों को रास, 5 साल तक लाल बत्ती से चली फिर मजदूरी करने लगी

कि पीहू ने जैसा कि बताया कि वह हमारे पिता कभी हां में पढ़ने में पीछे नहीं हटे और जान जी लगाकर पढ़ाया और हमने भी उनके सपनों पर खरा उतरा और आईएएस ऑफिसर बन अपने पिता के सपनों को साकार किया | आईएएस पी.बी. नूह (IAS P.B. Nooh) अपने भाई बहनों में सातवें स्थान पर थे और इनके पिताजी किराने की एक छोटी-सी दुकान चलाया करते थे। माँ एक हाउसवाइफ थी। 

पीहू की परिवार की आर्थिक स्थिति उतनी अच्छी नहीं थी पीहू 10 भाई बहन है और उन्होंने सब भाई बहन सरकारी स्कूल में शिक्षा ग्रहण की और उसके बाद फिर बताते हैं कि हमारा भी सपना था | सब बच्चों की तरह कि हम डॉक्टर बने लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति सही नहीं होने के कारण हम अपने सपनों को साकार नहीं कर पाए.

यह भी पढ़ें  स्कूल के साथ करते थे जूते-चप्पलों की दुकान में काम, आर्थिक तंगी को मात देकर किया UPSC को क्लियर

फिर हाई स्कूल के एग्जाम देने के बाद कॉलेज में एडमिशन करवाया उसके बाद ग्रेजुएशन की ग्रेजुएशन करने के बाद यूपीएससी की परीक्षा दी फिर पहले प्रयास में पास होने के बाद बेंगलुरु एग्रीकल्चर में एडमिशन ली और उसके बाद पहले ही प्रयास में आईएएस अफसर बने |