ये है बिहार के मुन्ना करते है सेव की खेती साथ में देते है और लोगों को भी रोजगार…

बिहार :- आपलोगों को आश्चर्य लगता होगा की बिहार में सेव की खेती असंभव है ये तो सिर्फ ठन्डे प्रदेश जैसे जम्मू कश्मीर में होती है | दोस्तों अब आपलोगों को बता दे की इस कार्य में बिहार भी पीछे नहीं रहा और बिहार में भी अब सेव की खेती लोग कर रहे है | विपरित परिस्थितियों से लड़कर आगे बढ़ने वाले को ही सफलता मिलती है। ऐसी ही विषम परिस्थितियों से लड़कर उद्यान रत्न बनने वाले किसान का नाम मुन्ना प्रजापति है।

हमेशा नया करने की ललक की वजह से मुन्ना प्रजापति ने सेब की खेती शुरू कर खुद के साथ औरों की भी किस्मत बदल रहे हैं। गर्मियों में उत्पादित होने वाले सेब हरमन 99 प्रजाति की खेती शुरू की है। जिससे उनको बहुत फायदा मिलता है और साथ में वो दूसरों लोग को भी रोजगार देते है | आईये जानते है इनके बारे में विस्तार से….

यह भी पढ़ें  बिहार में बदलेगा मौसम का हाल बिहार के इन जिलों में बारिश होने की विभाग ने जताई आशंका

दरअसल हम बात कर रहे है 31 वर्षीय मुन्ना के बारे में बिहार में सेव की खेती करनेवाले किसान मुन्ना बताते है कि वह केला और पपीता की खेती करते थे। हर दिन खेती में नया प्रयोग करते रहते थे। साल 2019 में ऑनलाइन ऑर्डर करके प्रयोग के लिए शिमला से हरमन 99 प्रजाति के सेब का पौधा मंगवा लिया। सिर्फ प्रयोग के लिए पांच पौधे लगाए थे। एक साल में पांच पेड़ से 50 किलो सेब का उत्पादन हो गया।

अच्छे उत्पादन को देखते हुए अब एक एकड़ में सेब का पौधा लगा दिए हैं। मुन्ना बताते हैं कि शुरू-शुरू में खेती में कई दिक्कतें आयीं। खासकर कीड़े का प्रकोप और मौसम के अनुकूल खेती में कैसे करें, समझ नहीं पाते थे, इसके कारण उत्पादन से अधिक नुकसान होता था। फिर कृषि वैज्ञानिकों की सलाह से खेती करने लगे। इससे उत्पादन में सुधार आया और गुणवत्ता भी अच्छी होने लगी।

यह भी पढ़ें  बिहारी जुगाड़ एक बिहारी ने अपनी टाटा नैनो कर को एक हेलीकॉप्टर में बदल दिया, लगाते है किराया पर

मुन्ना प्रजापति ने साल 2008 में स्नातक पास किया था। जिसके बाद उच्च शिक्षा के लिए बाहर जाना चाहते थे, लेकिन घर की आर्थिक तंगी ने पढ़ने नहीं दिया। इसके गांव में जमीन लेकर केले की खेती शुरू की। केले के बम्पर उत्पादन के बाद पपीते की खेती शुरू की। खेती में ही दो लोगों को स्थायी व दर्जनभर लोगों को पार्ट टाइम रोजगार दे रहे हैं।