अपने पापा की जलती चिता छोड़कर बेटी गयी थी exam देने, बैंक पीओ बनकर पिता को दी सच्ची श्रद्धांजलि, जानिए पूरी कहानी

दरअसल के बाद झारखंड के कोडरमा जिले से आई है इस बात में पिता शैलेंद्र सिन्हा के बेटी साक्षी श्रीवास्तव में बैंक में पीओ बन कर अपने पिता को बहुत बड़ी कामयाबी हासिल दरअसल इस पूरे कहानी में खास बात यह है कि बेटी साक्षी श्रीवास्तव अपने पिता की जलती चिता को छोड़कर बीपीएससी का एग्जाम देने चली गई | उसके बाद उसकी छोटी बहन ने बेटा होने का फर्ज निभाया और अपने पिता को मुखाग्नि दे बिटिया साक्षी श्रीवास्तव ने एक ही बार में बैंक पीओ का जॉब केनरा बैंक में लेकर अपने पिता को सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित की |

हम आपको बता दें कि शैलेंद्र सिन्हा को तीन बिटिया है स्नेहा श्रीवास्तव साक्षी श्रीवास्तव और समृद्धि श्रीवास्तव सबसे बड़ी बेटी श्रीवास्तव 2015 में पी ओ के पद पर चयनित हो गई थी और उसके बाद उसकी छोटी बहन साक्षी श्रीवास्तव भी बैंक पीओ के पद पर चयनित हो गई है अब उसकी छोटी समृद्धि श्रीवास्तव जिसने अपने पिता को मुखाग्नि देकर बेटे होने का फर्ज निभाया |

यह भी पढ़ें  कभी खेतों में किया काम, UPSC परीक्षा से 15 दिन पहले हुआ डेंगू, ICU में किया तैयारी, हिम्मत नहीं हारी, बने IAS ऑफिसर

साक्षी अपनी कॉलेज की पढ़ाई डीएवी स्कूल से की है और ग्रेजुएशन arts से की है जिस दिन यह बैंक पीओ की परीक्षा दी थी उसी दिन उसके पिता को देहांत हो गया लेकिन ऐसे विपरीत परिस्थिति में भी साक्षी ने हार नहीं मानी और परीक्षा दी और सफल भी हुई |