UPSC में नहीं मिली सफलता तो घरवालों ने कर दी शादी फिर, ससुराल वालों की सपोर्ट से निकाली UPSC

आज हम आपको संजीता मोहपात्रा के आईएएस अधिकारी बनने तक के सफर के बारे में बताएंगे। संजीता ओडिशा के राउरकेला की रहने वाली हैं। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा राउरकेला के स्कूल से ही प्राप्त की है। इसके बाद उन्होंने मैकेनिकल इंजीनियरिंग से B.Tech की डिग्री हासिल की है। संजीता ने बचपन से ही आईएएस बनने का सपना देखा था इसलिए उन्होंने ग्रेजुएशन के बाद ही तीन बार यूपीएससी परीक्षा दी।

यूपीएससी परीक्षा की तैयारी में कमी होने के कारण संजीता तीनों प्रयास में प्रीलिम्स परीक्षा तक नहीं पास कर पाईं थीं। इस असफलता के बाद उन्होंने एक सरकारी नौकरी ज्वाइन कर ली थी। हालांकि, उन्होंने यूपीएससी परीक्षा की तैयारी जारी रखी थी। उन्होंने फिर से परीक्षा की तैयारी शुरु की और इस बार सबसे पहले परीक्षा पैटर्न समझने की कोशिश की।

यह भी पढ़ें  विकलांगता और गरीबी से लड़कर बढ़ी आगे पहले प्रयास में मिली सफलता बनीं आईएएस : IAS Ummul Khair

संजिता मोहपात्रा ओडिशा के राउरकेला से आती है। प्रारंभिक पढ़ाई यहीं से हुई फिर बारहवीं के बाद इंजीनियरिंग की सोची। प्रतिष्ठित आईआईटी कानपुर से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में बीटेक की पढ़ाई पूरी की। इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक संजिता आईएएस बनना चाहती थी इसलिए बीटेक के बाद यूपीएससी की तैयारी में जुट गई। यूपीएससी की परीक्षा दी। लगातार तीन प्रयासों में मिली असफलता ने संजिता को सोचने पर मजबूर कर दिया। संजिता ने यूपीएससी की तैयारी जारी रखी और सरकारी नौकरी करने लगी।

संजीता सफलता से अब कुछ कदम ही दूर थीं। उन्होंने यूपीएससी परीक्षा क्लियर करने के लिए दिन रात मेहनत की। फिर साल 2019 में उन्होंने अपना पांचवा प्रयास दिया और इस बार न केवल परीक्षा पास की बल्कि 10वीं रैंक भी हासिल की। अब संजीता के ऊपर उसका पूरा परिवार गर्व कर रहा है |

यह भी पढ़ें  बस ड्राइवर की बेटी बनी IAS अधिकारी, रिजल्ट सुनने के बाद पापा ने पहली बार कहा “शाबाश बेटा