लॉकडाउन में फोन की अभाव में गरीब बच्चे नहीं पढ़ पा रहे थे एक टीचर ने स्कूटर पर खोल दी लाइब्रेरी देखिये इनकी अद्भुत कला

लॉकडाउन में फोन लैपटॉप के अभाव में गरीब बच्चे ऑनलाइन नहीं पढ़ पाते थे तो इसी दौरान एक टीचर मसीहा बनकर सामने आए और अपने स्कूटर पर ही पढ़ने का जरिया बनाया और उससे घूम घूम कर गांव में और से संबंधित पढ़ाई की व्यवस्था की हर गरीब बच्चों को पढ़ने में इससे बहुत मदद मिली मध्य प्रदेश के सागर जिले के रहने वाले सीएच श्रीवास्तव सरकारी टीचर हैं |

उन्होंने लॉकडाउन के दौरान अपने स्कूटर पर ही चलती-फिरती लाइब्रेरी बना दी है. इसमें कोर्स से संबंधित सभी किताबें होने के साथ-साथ दूसरी जरूरी किताबें भी है | श्रीवास्तव का कहना है कि गरीब बच्चे के पास लैपटॉप मोबाइल कंप्यूटर नहीं रहता है तो वह ऑनलाइन क्लास कैसे करेगा इसी को ध्यान में रखते हुए |

यह भी पढ़ें  सफलता की कहानी : कभी 50 रु. के लिए करते थे संघर्ष, UPSC क्वालिफाई कर बने असिस्टेंट कमिश्नर, टीचर ने की तारीफ

श्री वास्तव में चलती फिरती स्कूटर पर लाइब्रेरी बनाई और इससे गरीब बच्चे को टोला में घूम घूम कर पढ़ाई इससे गरीब बच्चों को बहुत सुविधा मिलीलाइब्रेरी में बच्चों को कोर्स से संबंधित किताबों के अलावा कहानियों और कविताओं की किताबें भी मौजूद हैं. बच्चे इन किताबों को लुत्फ उठा रहे हैं. टीचर के इस कदम की खूब चर्चा हो रही है |