बिहार में प्रधानाध्यापक के पद के लिए बम्पर बहाली 50 हजार से अधिको सीट पर होगी बहाली

बड़ी खबर बिहार में अध्यापक और शिक्षक की बहुत बड़ी वैकेंसी निकाली जा रही है | इस भर्ती में 45500 शिक्षक और 5300 प्रधानाध्यापक भर्ती होने वाले हैं | और इस भर्ती में एक खास बात यह भी है कि यह भर्ती बिहार सरकार नहीं करेगी |

बिहार लोक सेवा आयोग करेगा और हम आपको बता दें कि वर्ष 1994 के बाद पहली बार लोक सेवा आयोग के माध्यम से नियोजित शिक्षकों को भर्ती मिलेगी | इस नियुक्ति की जानकारी शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने दिया हालांकि 50,000 से अधिक पद पर शिक्षकों की बहाली कब होगी | अभी इसकी कोई सीमा तय नहीं की गई है |

यह भी पढ़ें  बिहार की राजधानी पटना में अब नहीं लगेगी जाम, क्योंकि होगा छः सड़कों का निर्माण

-किसी भी मान्यता प्राप्त विवि से न्यूनतम 50 फीसदी अंकों के साथ ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए. एससी/एसटी/दिव्यांग/महिला और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के अभ्यर्थियों को न्यूनतम निर्धारित अंक में पांच फीसदी की छूट मिलेगी.

-डीएलएड, बीटी बीएड, बीएएड बीएलएड की डिग्री भी जरूरी है. साथ ही 2012 या उसके बाद शिक्षक पात्रता परीक्षा पास होना भी अनिवार्य है |

-पंचायत प्रारंभिक शिक्षक, नगर प्रारंभिक शिक्षक के रूप में कार्य करने का लगातार आठ साल का अनुभव भी होना चाहिए |

अध्यापकों की भर्ती लिखित परीक्षा के जरिए होगी. ये परीक्षा 150 अंकों की होगी. इसमें वस्तुनिष्ठ और वैकल्पिक दोनो तरह के प्रश्न पूछे जाएंगे. सभी प्रश्न एक एक अंक के होंगे. प्रत्येक गलत उत्तर पर 0.25 अंक काट लिए जाएंगे |

यह भी पढ़ें  सहरसा नहीं बल्कि अब बरौनी जंक्शन से खुलेगी क्लोन हमसफर एक्सप्रेस पुरबिया एक्सप्रेस दो दिन चलेगी सहरसा से

-मान्यता प्राप्त विवि से न्यूनतम 50 फीसदी अंकों के साथ पोस्ट ग्रेजुएशन. एससी/एसटी/दिव्यांग/महिला और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के अभ्यर्थियों को न्यूनतम निर्धारित अंक में पांच फीसदी की छूट मिलेगी.

-मान्यता प्राप्त संस्थान से बीएड बीएएड की डिग्री भी होनी चाहिए.

-माध्यमिक शिक्षक के पद पर लगातार 10 साल कार्य करने का अनुभव होना चाहिए.

-उच्चत माध्यमिक शिक्षक के रूप में कार्य करने का आठ साल का अनुभव होना चाहिए