बिहार के मुख्यमंत्री ने गाँधी मैदान से किया ऐलान स्कूल का प्रिंसिपल बनने के लिए पास करना होगा परीक्षा

बिहार के स्कूलों में प्रिंसिपल की नियुक्ति को लेकर बिहार के सीएम नीतीश ने बड़ा ऐलान कर दिया है. मुख्यमंत्री ने कहा है कि अब स्कूलों में प्रिंसिपल बनने के लिए शिक्षकों को प्रतियोगिता परीक्षा पास करना होगा. अब नही होगी सीधे परमोसन देना होगा परीक्षा ख़तम हुयी प्रमोसन का दौर

देश के 75वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पटना के गांधी मैदान में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने तिरंगा फहराया. झंडोतोलन करने के बाद सीएम ने राज्यवासियों को संबोधित किया.

इस दौरान उन्होंने कई बड़े ऐलान किए. विद्यालयों में प्राचार्यों की नियुक्ति को लेकर भी सीएम ने बड़ी घोषणा की है. सीएम ने बताया की अब स्कूल के प्रधानचर्या बनने के लिए अब देनी होगी परीक्षा

सीएम ने घोषणा करते हुए कहा कि अब से स्कूलों में प्रतियोगिता परीक्षा के आधार पर प्रधानाचार्य की नियुक्ति होगी. इससे पहले प्रमोशन के आधार पर प्राचार्यों की नियुक्ति होती थी, लेकिन अब उन्हें प्राचार्य बनने के लिए प्रतियोगिता परीक्षा पास करना होगा. अब खतम हो गया प्रमोसन का दौर अब परीक्षा पास कीजिये और प्रधानाध्यापक बनिए |

इसके अलावा मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब छात्रों को उच्चतर शिक्षा में मदद के लिए राज्य में 40 छात्रावास बनाए जा रहे हैं. इन छात्रावासों में रहकर छात्र पढ़ाई कर सकेंगे. मुख्यमंत्री नितीश कुमार बोले ये गरीब छात्रो के लिए बहुत ही मददगार साबित होगा और बच्चो आसानी से सिक्षा का लाभ उठा सकेगा |

पटना के गांधी मैदान में सीएम नीतीश ने तिरंगा फहराने के बाद राज्यवासियों को संबोधित किया. मुख्यमंत्री ने सबसे पहले बिहार वासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी. आजादी के जश्न का मुबारकबाद देते हुए सीएम ने कहा कि बिहार तेजी से आगे बढ़ रहा है. विकास की गति तेज हुई है. न्याय के साथ विकास हो रहा है |

और सीएम नितीश ने अपने संबोधन में बताया की हम सभी कोरोना से अभी पूरी तरह से आजादी नही मिली है हमें सचेत रहने की जरूरत है कियुकी तीसरी लहर भी आ रही है | इसी में सीएम ने आगे बताया की कोरोना की टीकाकरण को लेकर सरकार सचेत है. कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए 134 जगहों पर ऑक्सीजन प्लांट लगाया जा रहा है. अभी तक 3 करोड़ लोगों को टीका लग चुका है |