क्या आपको पता है रेलवे स्टेशन, टर्मिनल, जंक्शन और सेंट्रल में क्या अंतर होता है ?

भारत में ट्रेन से लोग रोज करोरो से भी जायदा लोग एक दिन में ट्रेन से सफ़र करते है ऐसे में हम आपको बता दे की आपने भी कही न कही तो निश्चित ही सफ़र किया होगा तो आपने जरूर देखा ही होगा की स्टेशन के साईड में बोर्ड लगी होती है| कही जंक्शन की तो कही टर्मिनल की तो कही सेंट्रल की क्या आपको पता है कि टर्मिनल, जंक्शन और सेंट्रल में क्या फर्क होता है, अगर नहीं पता तो आज हम आपको बताने जा रहे हैं इसका जवाब…

जंक्शन

भारतीय रेलवे के मुताबिक रेलवे स्टेशन में जंक्शन नाम तब जोड़ा जाता है जहां तीन अलग-अलग रूटों का मिलान होता है. जिस स्टेशन से तीन दिशाओं के रूट निकलते हैं उस स्टेशन को जंक्शन कहा जाता है. भारत में 300 से ज्यादा जंक्शन हैं. देश का सबसे बड़ा जंक्शन मथुरा है जहां से सात अलग-अलग रूट निकलते हैं

यह भी पढ़ें  IAS Interview Question : क्या आपको पता है एक सेकंड में पूरी दुनिया में कितने बच्चों का जन्म हो जाता है ?

टर्मिनल या टर्मिनस

टर्मिनल या टर्मिनस ऐसे स्टेशनों को कहा जाता है जहां से आगे जाने के लिए रास्ता न हो. टर्मिनल में ट्रेने आती हैं मगर उन्हें उसी दिशा में वापस जाना पड़ता है. टर्मिनल स्टेशन से एक ही दिशा में ट्रेने चलती हैं. इस समय देश में लगभग 27 टर्मिनल स्टेशन हैं.

सेंट्रल स्टेशन

जिस रेलवे स्टेशन के नाम के आगे सेंट्रल शब्द जुड़ा हो समझ लीजिए वो सबसे महत्वपूर्ण और व्यस्त रेलवे स्टेशन है. जानकारी के मुताबिक भारत में पांच रेलवे स्टेशनों को सेंट्रल का दर्जा दिया गया है.

मुंबई, चेन्नई, त्रिवेंद्रम, मैंगलोर और कानपुर रेलवे स्टेशन के आगे सेंट्रल शब्द लगाया जाता है. सेंट्रल, जंक्शन और टर्मिनल रेलवे स्टेशनों को छोड़कर बाकी सभी स्टेशन होते हैं.

यह भी पढ़ें  क्या आप जानते है महाभारत युद्ध कुल कितने दिनों तक चला था ?