जल्द मशहूर मैथिल कवि विद्यापति के नाम पर होगा दरभंगा एयरपोर्ट का नामकरण…

दरभंगा एयरपोर्ट को शुरू हुए कुछ ही महीने में एक साल पूरे हो जाएंगे. लेकिन अब तक एयरपोर्ट का नामकरण नहीं हो पाया है. मशहूर मैथिल कवि विद्यापति के नाम पर हवाई अड्डे का नामकरण होना है. लेकिन अब तक ऐसा हुआ नहीं है. लेकिन जल्द की एयरपोर्ट का नामकरण कर दिया जाएगा. बुधवार को राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी के सवाल पर नागर विमानन मंत्री ने खुद इस बात की जानकारी दी है.

राज्य सरकार का प्रस्ताव प्रक्रियाधीन ;-

नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य माधवराव सिंधिया ने बताया कि दरभंगा एयरपोर्ट का नामकरण ‘विद्यापति’ के नाम पर करने का राज्य सरकार का प्रस्ताव प्रक्रियाधीन है और जल्द ही निर्णय लेकर उसका नामकरण कर दिया जाएगा.

केंद्रीय मंत्री ने बुधवार को राज्यसभा में सांसद के एक सवाल के जवाब में बताया कि दरभंगा हवाई अड्डा एक रक्षा हवाई अड्डा है, जहां भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण द्वारा सिविल इन्क्लेव विकसित किया गया है. वहां घरेलू यात्री टर्मिनलों और अन्य निर्माण कार्यों के लिए लगभग 120 करोड़ रुपयेका बजटीय प्रावधान किया गया है.

उन्होंने कहा कि दरभंगा हवाईअड्डे पर पर्यटकों सहित आगमन और प्रस्थान का औसत लगभग 84,000 यात्री प्रति महीने है. क्षेत्रीय सम्पर्क योजना (उड़ान) के अंतर्गत दरभंगा एयरपोर्ट को अब तक सात शहरों पहले बैंगलुरु,मुम्बई एवं दिल्ली तथा बाद में कोलकाता, हैदराबाद, अहमदाबाद और पुणे से जोड़ा जा चुका है.

चुनावी शोर के बीच हुआ था आगाज ;-

मालूम हो कि पिछले साल चुनावी शोर कर बीच नवंबर महीने में एयरपोर्ट का शुभारंभ किया गया था. सबसे पहले स्पाइस जेट के विमान ने दिल्ली के लिए उड़ान भरा था. बेंगलुरु से आए विमान का दरभंगा एयरपोर्ट पर वाटर कैनन से स्वागत किया गया था. इस महीने से इंडिगो के विमानों ने भी एयरपोर्ट से उड़ान भरना शुरू कर दिया है. बीच में लक्ष्मेश्वर महाराज के परिजन एयरपोर्ट का नामकरण उनके पूर्वजों के नाम पर करने की मांग उठा रहे थे. लेकिन मुख्यमंत्री ने साफ तौर पर केंह दिया कि नामकरण मैथिल कवि के नाम पर ही होगा.