पटना की मोनिका दास देश की पहली ट्रांसजेंडर बैंकर और पीठासीन चुनाव अधिकारी हैं, इनकी सफलता के आज सारे मुरीद हैं

घर में अगर कोई लड़की लड़कों के कपड़े पहनकर, लड़कों के तरह बात-व्यवहार करने लगती है तब लोग उसे कहते हैं कि लड़की बोल्ड है। वहीं अगर कोई लड़का, लड़कियों की हरकते करता हैं, लड़कियों के तरह कपड़े पहनने लगता है तब लोग उसे हीन-भावना से देखने लगते हैं। इस कड़ी मैं मैंने मोनिका दास से बात की, जो पटना की रहने वाली हैं और एक प्राउड ट्रांस वूमेन हैं।

मोनिका दास राजधानी पटना में बैंक में काम करती हैं। मोनिका साल 2015 में देश की पहली ट्रांसजेंडर बैंकर बनी हैं और पीठासीन पदाधिकारी के तौर पर एक बूथ की पूरी जिम्मेवारी भी संभाल चुकी हैं। मोनिका ने अपनी शुरुआती पढ़ाई नवोदय विद्यालय बिहार से की है।
उनकी ग्रैजुएशन पटना कॉलेज से पूरी हुई है। उन्होंने पटना युनिवसिर्टी से एलएलबी की डिग्री हासिल किया है, जिसमें उन्हें गोल्ड मेडल भी प्राप्त है। इसके साथ वे Beauty Pageant for Transgenders की विजेता भी रह चुकी हैं।

मोनिका हैं एक प्राउड ट्रांस वूमेन

मोनिका की शख्सियत आज किसी परिचय की मोहताज नहीं है क्योंकि उन्होंने अपनी मेहनत से अपनी पहचान बनाने का काम किया है। मोनिका एक प्राउड ट्रांस वूमेन हैं, जिन्होंने अपनी सफलता से LGBTQ समुदाय को फलक पर पहुंचाने का काम किया है। – Transgender Monika Das

मोनिका ने बताया कि उनकी आइडेंटिटी लड़कों से अलग थी और लोग उन्हें पहले गोपाल के नाम से जानते थे, मगर धीरे-धीरे उन्हें एहसास हुआ कि उन्हें नारित्व से ज्यादा लगाव है। शायद इसलिए ही उन्हें लड़कों से ज्यादा लड़कियों के साथ रहने में अच्छा लगता था। पहले आसपास और घर में भाई-बहन भी उनसे दूरी बनाकर रहते थे क्योंकि उनकी नज़र में मोनिका अलग थीं। इस कारण मोनिका को बहुत परेशानियां उठानी पड़ती थी

और यह सच भी है क्योंकि अगर घर में ही लोग अपनों का साथ नहीं देंगे, तब आत्मविश्वास का डगमगाना तय है। क्लास में बच्चे मजाक बनाया करते थे और बाद में लोगों ने भी गलत नजरिये से देखना शुरु कर दिया था। मोनिका कहती हैं कि उनका शरीर लड़के के था लेकिन आत्मा में स्त्रीत्व का बसेरा था, जिसे पहचानकर मोनिका ने अपने आपको ट्रांस वूमेन की पहचान दिलाने का निश्चय कर लिया। – Transgender Monika Das