स्कूटी सवार शख्स से पीठ पर पत्नी को लादे बुजुर्ग ने कहा – ‘भिखारी नहीं हूं, मजबूर हूं’

आज हम आपको बहुत ही दर्दनाक किस्सा बताने जा रहे है जो सुन कर आपको भी रोना आजायेगा। एक 71 साल का बुजुर्ग अपनी पत्नी को अपनी पीठ पर लादे घूम रहा है वह मजबूर है भिक मांगने को। यह सब इनके साथ सरकार की लापरवाही के कारण हो रहा है, जब इनसे पूछा गया तब इस बुजुर्ग ने बताया की वह उसकी पत्नी जिनका नाम साको देवी है। उनको पेरो की बीमारी है जिस वजह से वह चल नहीं सकती।

इसी कारण वह अपनी पत्नी को लाद कर लोगो से पैसे मांग रहा है। आपको बता दे की इन बुजुर्ग का नाम राम प्रवेश है इन्होने फ़ूड कारपोरेशन ऑफ़ इडिया में 28 वर्षो तक सेवा दी है। कुछ समय पहले तक ही ये दुर्ग में पदस्थ है। हैरानी इस बात की है की इतनी अच्छी पोस्ट पर होने के बाद इनके ये हालत कैसे हुए।

जब इन बुजुर्ग से पूछा गया तो उन्होंने बताया की इन्हे अचानक इनके काम से निकल दिया गया और इन्हे जिंदगी भर की कमाई भी नहीं दी गयी। राम प्रवेश ने बताया की करीब 8 लाख से ज्यादा उसे लेना है। इस बुजुर्ग ने बताया की इन्होने इस संबंध में कलेक्टर से भी गुहार लगायी है पर उनकी समस्या का हल नहीं हो पाया।

रोज करीब 8-10 घंटे अपने पीठ पर चावल की बोरियां उठाने वाले राम प्रवेश आज मजबूर है और अपनी मजबूरी के चलते अपनी पत्नी को अपनी पीठ पर ढो रहे है। उनका कहना है की मुझे भीख मांगना पसंद नहीं, लेकिन में मजबूर हूँ मेरी पत्नी के इलाज में लगने वाले हजारो रुपये में कहा से लाऊ, इसलिए मुझे भीख मांगना पढ़ रही है।