1627128859759

टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics) मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने इतिहास रच दिया. उन्होंने वेटलिफ्टिंग (Weightlifting) की 49 किलोग्राम कैटेगरी में सिल्वर जीत कर भारत को पहला मेडल दिला दिया.

Also read: बड़ी खबर अब 2 नहीं बल्कि १ पिलर पर ही बनाई जायेगी एलिवेटेड रोड, जान लीजिये क्यूँ लेना पड़ा ब्रिज कारपोरेशन को ऐसा फैसला….

मीराबाई का मुश्किलों भरा सफर :-

Also read: Bihar Weather : बढ़ते गर्मी से परेशान है लोग अभी कुछ दिन नहीं होगी वर्षा पारा 40 डिग्री पार, इन जिलों में लू का अलर्ट, जानिये अपने क्षेत्रों का हाल?

मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) आज कामयाबी की बुलंदियों पर है, लेकिन उनके लिए यहां तक का सफर आसान नहीं रहा है. उन्होंने अपनी जिंदगी में काफी जद्दोजहद किया है. मुश्किलों से गुजरने के बाद मीराबाई ने ये मुकाम हासिल किया.

Also read: Indian Railway : अमृतसर आने-जाने के लिए चलने वाली है 2 जोड़ी से अधिक समर स्पेशल ट्रेनें, आप भी करना चाहते है यात्रा तो करें बुकिंग

एक वक्त ऐसा भी था जब मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) के पास अच्छी डाइट के लिए पैसे नहीं थे. उन्होंने जब वेटलिफ्टिंग की ट्रेनिंग शुरू की थी, तब उनके घर की आर्थिक हालात ठीक नहीं थे. इस वजह से उन्हें कई बार अच्छी डाइट नहीं मिल पाती थी. उन्हें डाइट में रोज़ाना दूध और चिकन चाहिए था, लेकिन एक आम परिवार की मीरा के लिए ये नामुमकिन था.

Also read: बिहार के पटना, गया, समस्तीपुर बरौनी के साथ-साथ इन जगहों से चलाई गई समर स्पेशल ट्रेन मिल रहा कन्फर्म टिकट

सिखोम मीराबाई चानू (Saikhom Mirabai Chanu) मणिपुर (Manipur) के इंफाल ईस्ट (Imphal East) की रहने वाली हैं. उनके गांव में ट्रेनिंग सेंटर नहीं था, वो 50-60 किलोमीटर दूर ट्रेनिंग के लिए जाया करती थीं. मीराबाई ने इन मुश्किलों को कभी अपनी कामयाबी के आड़े आने नहीं दिया.

Input :- samastipur town

सोनू मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर जिला के रहने वाले है पिछले 4 साल से डिजिटल पत्रकारिता...