आपको पता है स्टेशन, जंक्शन और टर्मिनल में क्या है फर्क?

इंडियन रेलवे (Indian Railways) रोज करोड़ों लोगों को उनके मकसद को पूरा करने के लिए मंजिल तक पहुंचाती है. भारतीय रेल का नेटवर्क दुनिया का चौथा सबसे बड़ा रेलवे नेटवर्क है. वहीं, एशिया में इंडियन रेलवे का नेटवर्क सबसे बड़ा है. हम रेल सफर के दौरान कई स्टेशनों से होकर गुजरते हैं.

जिनके साइन बोर्ड पर जंक्शन, टर्मिनस, सेंट्रल या स्टेशन लिखा होता है. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर जब सभी स्टेशन पर ट्रेनें रुकती हैं और सवारियों को लेकर रवाना हो जाती हैं इसके बाद भी इनके नाम में ये अलग-अलग नाम क्यों जुड़े होते हैं, जैसे छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, मुंबई सेंट्रल, मथुरा जंक्शन और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन. आइए जानते हैं इनके बारे में…

टर्मिनस या टर्मिनल क्या होता है? 

टर्मिनस या फिर टर्मिनल में कोई अंतर नहीं है. टर्मिनल का मतलब ऐसे स्टेशन से है जहां से ट्रेनों के आगे जाने के लिए ट्रैक न हो, यानी ट्रेनें वहां आती तो हों लेकिन फिर आगे के सफर के लिए उन्हें उसी दिशा में जाना पड़ता हो जिस दिशा से उनका आगमन हुआ हो. यानी रेलवे टर्मिनल से ट्रेनें एक ही दिशा में जा सकती हैं क्योंकि वहां से आगे का रास्ता नहीं होता. वर्तमान में देश में 27 रेलवे टर्मिनल हैं. उदाहरण के तौर पर छत्रपति शिवाजी टर्मिनस, लोकमान्य तिलक टर्मिनस, कोच्चि हार्बर टर्मिनस, बांद्रा टर्मिनस, भावनगर टर्मिनल, कोचीन हार्बर टर्मिनस आदि.

सेंट्रल स्टेशन किसे कहते हैं?

जिन रेलवे स्टेशन के नाम में सेंट्रल जुड़ा हो समझ लीजिए कि वो उस शहर का सबसे महत्वपूर्ण और व्यस्त स्टेशन है. यानी ऐसा स्टेशन जो शहर का सबसे पुराना स्टेशन हो, जहां से बहुत ज्यादा मात्रा में ट्रेनें गुजरती हों. हालांकि, ये बिलकुल भी अनिवार्य नहीं है कि एक शहर में तीन से चार स्टेशन हों तो वहां के सबसे व्यस्त रहने वाले स्टेशन को सेंट्रल नाम दे दिया जाए.

जैसे नई दिल्ली सबसे व्यस्त रहने वाले स्टेशनों में से एक है लेकिन इसके नाम में सेंट्रल नहीं लगा है. न ही दिल्ली में कोई और सेंट्रल स्टेशन है. जानकारी के मुताबिक भारत में 5 सेंट्रल रेलवे स्टेशन हैं और वो हैं, मुंबई सेंट्रल, चेन्नई सेंट्रल, त्रिवेंद्रम सेंट्रल, मैंगलोर सेंट्रल और कानपुर सेंट्रल.

कौन से रेलवे स्टेशन होते हैं जंक्शन?

भारतीय रेलवे के मुताबिक देश के रेलवे स्टेशन के नाम में जंक्शन तब जुड़ता है जब वहां तीन अलग-अलग रूट्स का मिलन होता है. यानी अगर किसी स्टेशन पर तीन दिशाओं से ट्रेनें आकर मिलती हों तो उस स्टेशन को जंक्शन कहा जाता है. एक आंकड़े के मुताबिक भारत में 300 से ज्यादा रेलवे जंक्शन हैं. हालांकि सबसे बड़ा जंक्शन मथुरा स्टेशन को कहा जाता है क्योंकि यहां 7 अलग-अलग रूट निकलते हैं.