AddText 07 06 09.58.31

: कोई भी आदमी मार्केट में या फिर बगीचे में आम की कीमत 100-200 रुपए तो जरूर सुने होगे। लेकिन, क्या आपने एक आम की कीमत 21 हजार सुने है। जी हां आपने बिल्कुल सही सुना..

Also read: Petrol-Diesel Today Price : यूपी-बिहार समेत इन जगहों में कम हुए पेट्रोल-डीजल के भाव, कम्पनी ने जारी किये नए रेट, जानिये….

यह सुनकर चौंकिए मत, लेकिन यह सच है। दुनिया का सबसे महंगा आम जापान के मियाजाकी प्रांत में मिलने वाला “ताईयो नो तामागो” (Taiyo no Tamago ) आम की खेती अब बिहार में भी होने लगी है। बता दें की पूर्णिया जिला में इस नस्ल का इकलौता पेड़ 25 साल से उपलब्ध है।

Also read: Bihar Weather Update : बिहार में इतनी तपती गर्मी से लोग है परेशान, बहुत जल्द लोगों को मिलने वाली है राहत होगी भारी बारिश!

यह पेड़ दिवंगत पूर्व विधायक अजीत सरकार के घर पर उपलब्ध है। उनके दामाद विकास दास ने इस आम के पेड़ के बारे में बताया “करीब 30 साल पहले मेरे ससुर अजीत सरकार की बेटी रीमा सरकार को विदेश से आए एक शख्स ने तोहफे में दिया था। तब उन्हें इस आम के दुर्लभ होने की जानकारी नहीं थी। पर जब नेट पर सर्च किया तो इसकी जनकारी मिली। आम का रंग गहरा लाल होता है।

Also read: Petrol Diesel Price Today : यूपी बिहार में सस्ता हुआ पेट्रोल डीजल जानिये आपके जिला में कितना भाव में बिक रहा तेल, देखिये…

इंटरनेशनल मार्केट में इसका दाम करीब 2.70 लाख प्रति किलो है: बता दें कि इस दुर्लभ आम की कीमत शेयर मार्केट में बहुत ही ज्यादा है। दुनिया के बाजार में इसकी कीमत 2.70 लाख रुपये प्रति किलो है। मध्य प्रदेश के जबलपुर में इस आम के उगाए जाने की बात कही जा रही है। इंटरनेशनल मार्केट में इस आम की कीमत 2.70 लाख रुपए किलो के करीब है। भारत में यह एक आम 21 हजार रुपये तक में खरीदा जा चुका है।

Also read: इतनी भीषण गर्मी में बिहार जाने वाली ये ट्रेन हो गई 10 घंटे लेट, यात्री हुए गुस्से से लाल सोशल मीडिया पर निकाली अपनी भरास!

जानिए इस अनोखे आम की खासियत: विकास दास ने बताया ” आम की सुरक्षा के लिये हमने सीसीटीवी कैमरा और केयर टेकर रखा हुआ है। यह आम का कलर ही नहीं बल्कि इसका मंजर भी अलग किस्म का होता है। जब मंजर निकलता है तो यह सुनहरे रंग कलर का होता है। आम को जैसे-जैसे धूप मिलती है। यह गोल्डेन कलर का हो जाता है।

सोनू मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर जिला के रहने वाले है पिछले 4 साल से डिजिटल पत्रकारिता...