AddText 07 06 09.14.50

नेपाल  के जलग्रहण क्षेत्रो में पिछले कई दिनों से हो रही  बारिश एवं नेपाल द्वारा वाल्मीकिनगर बराज से लगातार पानी छोड़े जाने से गंडक नदी पूरे उफान पर है . नेपाल द्वारा बुधवार को ढाई लाख क्युसेक पानी छोड़ा गया था जिस कारण  गंडक नदी का जलस्तर पिछले तीन दिनों से उफान  पर है.

Also read: Mumbai-Howrah Duronto Express : दो दिनों तक रद्द रहेगी ये लम्बी दुरी की ट्रेनें जान लीजिये पूरी बात…

 .गंडक नदी का जलस्तर लगातार बढ़ने से सारण तटबंध के निचले इलाकों में बसे पृथ्वीपुर ,सलेमपुर  सोनवर्षा ,बसहिया , उभवा सारंगपुर ,रामपुररुद्र 161 आदि गांवों के सैकड़ों घरो में  पानी प्रवेश कर गया है जिससे बाढ़ की स्थिति विकराल हो गयी है .

Also read: भागलपुर से राजधानी पटना और दिल्ली के लिए सफ़र करना हुआ आसान जान लीजिये समय-सारणी और टाइम टेबल…

नाव की अनुपलब्धता एवं सड़क संपर्क भंग हो जाने के कारण रामपुररुद्र 161 गांव के लोगो को जरूरी सामानों की खरीददारी के लिए जान जोखिम में डाल कर जाना पड़ रहा है .हालांकि कोंध पंचायत की मुखिया रूबी देवी द्वारा  इस गांव के लिए दो नावों की व्यवस्था की गयी है जो नाकाफी साबित हो रहा है .

Also read: Petrol Disel Price : इन जगहों पर लगातार कम रहे तेल की कीमत, इन शहरों में हो रही महंगा जाने आपके क्षेत्रो में कितनी है भाव…

अगर एक सप्ताह तक यही स्थिति रहती है तो प्रशासनिक स्तर पर नाव की व्यवस्था की जाएगी .बाढ़ नियंत्रण विभाग के सहायक अभियंता विनोद कुमार ने बताया कि नेपाल द्वारा लगातार पानी छोड़े जाने से नदी का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है .

Also read: Gold-Silver Price Today: गिर गया सोना का भाव तो महंगा हुई चांदी जानिये क्या है गोल्ड-सिल्वर की 10 ग्राम की कीमत

उन्होंने बताया कि नेपाल द्वारा छोड़ा गया ढाई लाख क्युसेक पानी  पानापुर की सीमा से गुजर गया है  . वही शनिवार को नेपाल द्वारा छोड़े गए पौने तीन लाख क्युसेक  पानी भी आसानी से निकल जाएगा . उन्होने बताया कि सारण तटबंध को फिलहाल कोई खतरा नही है .

सोनू मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर जिला के रहने वाले है पिछले 4 साल से डिजिटल पत्रकारिता...