AddText 07 05 09.20.20

: बिहार के बगहा में मगरमच्छों द्वारा बांध को किए गए नुकसान के बाद अब वन विभाग एवं वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट ऑफ इंडिया भी उनकी मॉनिटरिंग कर रही है. इंजीनियर्स की टीम ने बांध की मरम्मती का काम भी शुरू कर दिया है.

Also read: Mumbai-Howrah Duronto Express : दो दिनों तक रद्द रहेगी ये लम्बी दुरी की ट्रेनें जान लीजिये पूरी बात…

बाढ़ की समस्या से लड़ रहे बिहार में चूहों के बाद अब मगरमच्छों (Crocodile) की करामात सामने आई है. मामला पश्चिम चंपारण से जुड़ा है जहां के बगहा के पिपरा पिपरासी तटबंध में मगरमच्छों ने मिलकर सुरंग (Tunnel In Pire) बना दी. सुरंग बनाए जाने की सूचना के बाद जल संसाधन विभाग के अधिकारियों की नींद उड़ गई. सुरंग बनाने की सूचना के बाद जल संसाधन विभाग के मुख्य अभियंता प्रकाश दास के नेतृत्व में एक्सपर्ट की टीम ने तटबंध का जायजा लिया. 

Also read: Gold-Silver Price Today: गिर गया सोना का भाव तो महंगा हुई चांदी जानिये क्या है गोल्ड-सिल्वर की 10 ग्राम की कीमत

पिपरा के तटबंध में पिपरासी के समीप कटावरोधी कार्य करने के दौरान मगरमच्छ के अंडे मिले थे, जिसे  करीब 10 फीट सुरंग बनाकर मगरमच्छ ने अपना आशियाना बनाया था. मगरमच्छ के अंडों को वन विभाग ने बरामद कर सुरक्षित कर दिया है. निरीक्षण के बाद मुख्य अभियंता ने युद्धस्तर पर सभी सुरंगों  को बंद करने का आदेश दिया है. तटबंध को मजबूत करने के लिए भी काम चल रहा है.

Also read: Vande Bharat Express : भागलपुर – हावड़ा के बीच चलाई जायेगी वन्दे भारत एक्सप्रेस, बचेंगे समय मिलेगी लग्जरी सुविधा, जानिये….

मुख्य अभियंता जल संसाधन विभाग के प्रकाश दास ने बताया कि एक्सपर्ट अभियंताओं के साथ सुरंग वाले स्थान का जायजा लिया गया है. करीब 10 फीट गहरा सुरंग मगरमच्छ ने बनाया है जिसे युद्धस्तर पर ठीक करते हुए निरीक्षण कर हर बिन्दु पर जांच कर अन्य सुरंगों की तलाश करने का आदेश दिया गया है.

Also read: भागलपुर से राजधानी पटना और दिल्ली के लिए सफ़र करना हुआ आसान जान लीजिये समय-सारणी और टाइम टेबल…

मुख्य अभियंता के मुताबिक वन विभाग के जानकारों का भी सहयोग लिया जायेगा. तटबंध में मगरमच्छों द्वारा आशियाना बनाये जाने की सूचना के बाद वन विभाग वाइल्ड लाइफ ट्रस्ट आफ इंडिया के सहयोग से निगरानी में जुट गया है.

Source news18hindi

सोनू मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर जिला के रहने वाले है पिछले 4 साल से डिजिटल पत्रकारिता...