Screenshot 20210702 100518 01 1

:

Also read: Gold-Silver Price Today: गिर गया सोना का भाव तो महंगा हुई चांदी जानिये क्या है गोल्ड-सिल्वर की 10 ग्राम की कीमत

बिहार राज्य के मुंगेर जिले स्थित जमालपुर के पहाड़ियों में राज्य का दूसरा रेल सुरंग का निर्माण तेजी से हो रहा है। यह निर्माण होने से भागलपुर किऊल-सेक्शन पर ट्रेनों का परिचालन और सुगम हो जाएगा। बता दें कि यह रेल सुरंग निर्माण कार्य 2019 के फरवरी में शुरू हुआ था। और इसका निर्माण 2020 के मार्च तक पूरा होना था। परंतु, करोना की बजह से काम में बाधा आई। फिर जून 2020 से काम में तेजी आई है।

Also read: Vande Bharat Express : भागलपुर – हावड़ा के बीच चलाई जायेगी वन्दे भारत एक्सप्रेस, बचेंगे समय मिलेगी लग्जरी सुविधा, जानिये….

अब अधिकारियों की मानें तो यह रेल सुरंग का निर्माण कार्य तकरीबन 90 फीसद तक पूरा कर लिया गया है। और अगस्त 2021 से सुरंग में रेलवे ट्रैक बिछाने का काम भी शुरू हो जाएगा। जिससे उम्मीद लगाई जा रही है की अक्टूबर-नवंबर के बीच यह सुरंग चालू हो जाएगा। बता दें कि इसकी लागत 2019 में 35 करोड़ रुपये थी अभी बढ़कर 52 करोड़ खर्च होने की उम्मीद है।

Also read: भागलपुर से राजधानी पटना और दिल्ली के लिए सफ़र करना हुआ आसान जान लीजिये समय-सारणी और टाइम टेबल…

अभी तक जमालपुर और रतनपुर के बीच एक ही लाइन से ट्रेनें गुजरती हैं। यह नए सुरंग बनने के बाद लगभग तीन किलोमीटर बची रेल ट्रैक दोहरीकरण का रास्ता भी पूरी तरह साफ हो जाएगा। सुरंग बनने के बाद अप और डाउन की ट्रेनें जमालपुर और रतनपुर में नहीं फंसेगी। जिससे समय में काफी बचत होगा।

Also read: Mumbai-Howrah Duronto Express : दो दिनों तक रद्द रहेगी ये लम्बी दुरी की ट्रेनें जान लीजिये पूरी बात…

नए रेल सुरंग पुराने रेल सुरंग से बड़ा होगा: इस बार जो नए रेल सुरंग का निर्माण किया जा रहा है। वह पुराने रेल सुरंग की तुलना में थोड़ा बड़ा होगा। बता दें की नए रेल सुरंग की लंबाई लगभग दो सौ फीट ज्यादा है। पुराने सुरंग की लंबाई 710 फीट है। जबकि नए सुरंग की लंबाई 903 फीट है। चौड़ाई भी 10 फीट ज्यादा है। नए सुरंग में पैदल चलने के लिए दोनों तरफ से छह-छह फीट का रास्ता भी बनाया गया है। ताकि सुरंग से गुजरते वक्त कोई ट्रेन भी आ जाए तो दिक्कत नहीं होगी।

सोनू मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर जिला के रहने वाले है पिछले 4 साल से डिजिटल पत्रकारिता...