AddText 07 02 05.50.23

अंग्रेजों के समय में बने इस स्टेशन को लोग सौंदर्य, सौहार्द्र और साझी संस्कृति के तौर पर भी जानते हैं, तो कन्फ्यूज़न होने के लिए भी. कभी पुलिस के लिए समस्या पैदा हो जाती है, तो कभी यात्रियों के लिए भी.

Also read: सोमवार की सुबह सोने की कीमत में हुई बड़ी गिरावट जान लीजिये आपके क्षेत्र में क्या है ताजा भाव पूरी खबर…

दिलवा स्टेशन से गुजरने वाली अप और डाउन रेलवे लाइन दो राज्यों के बीच बंटती है. गया की ओर से आने वाले यात्री जब इस स्टेशन पर उतरते हैं, तो उनके कदम बिहार में ही रहता हैं, लेकिन अगर धनबाद की ओर से आते हैं, तो उनके पांव झारखंड की सीमा में उतरते हैं. यहां तक होता है कि स्टेशन पर पांच कदम चलने से ही राज्यों के नाम तक बदल जाते हैं.

Also read: Mumbai-Howrah Duronto Express : दो दिनों तक रद्द रहेगी ये लम्बी दुरी की ट्रेनें जान लीजिये पूरी बात…

इस स्थिति के मद्देनज़र कभी कोई घटना हो जाए तो दो राज्यों की पुलिस के बीच अक्सर कन्फ्यूज़न हो जाता है. सीमा विवाद के कारण कभी पुलिस पहुंच नहीं पाती, तो कभी एक ही घटना को लेकर दोनों राज्यों की पुलिस पहुंच जाती है.

Also read: भागलपुर से राजधानी पटना और दिल्ली के लिए सफ़र करना हुआ आसान जान लीजिये समय-सारणी और टाइम टेबल…

दिलवा एक छोटा सा स्टेशन है, जहां तक पहुंचने के लिए सड़क काफी खराब है. दिलवा स्टेशन के एक छोर पर कोडरमा ज़िले के चंदवारा प्रखंड की पंचायत लगती है, जबकि दूसरे छोर पर बिहार का रजौली अनुमंडल लगता है. हालांकि दिलवा स्टेशन पर आसनसोल वाराणसी पैसेंजर और ईएमयू अप-डाउन ठहरती है, जबकि डाउन लाइन पर केवल इंटरसिटी रुकती है.

Also read: बड़ी खबर : Muzaffarpur से Anand Vihar के लिए चलने वाली विशेष ट्रेन को लेकर आया बड़ा अपडेट टिकट लेने से पहले…

कोडरमा व धनबाद रेलमंडल के दिलवा स्टेशन के नज़ारे के अलावा, दो राज्यों के बीच स्टेशन का बंटा होना खासा आकर्षण पैदा करता है. यह एक ऐतिहासिक क्षेत्र है, जहां बोर्ड लगाकर रेलवे ने झारखंड और बिहार की सीमा तय की है. बिहार से झारखंड साल 2000 में अलग हो गया था, 

सोनू मूल रूप से बिहार के समस्तीपुर जिला के रहने वाले है पिछले 4 साल से डिजिटल पत्रकारिता...