भेड़ चराने वाले चरवाहे को मिला करोड़ों का कीमती पत्थर, इंसानियत के लिए दान किया

हमे कभी भी किसी की गरीबी का मज़ाक नहीं उड़ाना चाहिए। कब किसकी किस्मत पलट जाए कोई नहीं जनता है। किसी का भी वकत एक सा नहीं होता है। कौन जाने किस पल किस्मत पलट जाए और पैसो की बारिश होने लगे। आपको जानकर हैरानी होगी की एक भेड़ चराने वाला चरवाहा रातों रात करोड़पति बन गया। हालांकि उनकी दरियादिली की वजह से उसके हाथ पहले की तरह खाली ही रह गए। तो चलिए जानते हैं कि आखिर ऐसा क्या हुआ था की, चरवाहा करोड़पति बंनने के बाद भी वैसा ही क्यों रह गया।

आपकी जानकारी के लिए बता दे इसी साल फरवरी के महीने में यूके के कॉट्सवोल्ड्स के ग्रामीण इलाके में एक चरवाहे की अचानक से किस्मत पलट गई। दरअसल, भेड़ चराने वाले इस शख्स को एक दिन अचानक से उल्कापिंड के दो छोटे टुकड़े मिल गए। जिसकी कीमत करोड़ रुपए है। लेकिन इस शख्स की दरयादिली ने उसके हाथ करोड़ों रुपये नहीं लगने दिए।

उसने ये बेशकीमती टुकड़े म्यूजियम में दान के रूप में दे दिया। बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार यह टुकड़ा 4 बिलियन साल पुराने है। बताया जा रहा है की इन उल्कापिंड के टुकड़ों की मदद से इस रहस्य से पर्दा उठाया जा सकता है कि अंतरिक्ष में जीवन की कितनी संभावना है।

आम पत्थरों जैसा दिखने वाला ये पत्थर बेहद किमती है। अब इस पत्थर को 17 मई से नेचुरल हिस्ट्री म्यूजियम में आम जनता के लिए सार्वजनिक करने की तैयारी की जा रही है। आपको बता दे म्यूजियम इन पत्थरो को छोटे-छोटे टुकड़ों में रखेगा। अंतरिक्ष से गिरे इस अनोखे पत्थर का नाम विंचकॉम्ब मीटिऑराइट रखा गया है।

बताते चले इस उल्कापिंड को कार्बनेशियस कोंड्राईट का एक प्रकार बताया जा रहा है। बीबीसी के रिपोर्ट के अनुसार बीते 30 सालों में यूके में मिला ये पहला पत्थर है, जो आसमान से नारंगी और हरे रंग के आग के गोले की तरह गिरा था। इतना ही नहीं ये नज़ारा उल्कापिंड सिक्युरिटी कैमरे में कैद हुआ था।