25 साल MLA-MP रहने के बाद भी खपरैल घर में रहते थे रघुवंश बाबू, न गाड़ी खरीदा न बैंक-बैलेंस-फोन

पूर्व केंद्रीय मंत्री और राजद के वरिष्ठ नेता रहे स्वर्गीय रघुवंश प्रसाद सिंह (RJD Leader Raghuvansh Prasad Singh) की आज 75 वीं जयंती है. बिहार की सियासत में उनके सरल व्यवहार की वजह से लोग प्यार से उनको ब्रह्म बाबा भी कहते हैं।

आपको पता है कौन है ये साधारण सा व्यक्ति? जी ये है डाॅ रघुवंश प्रसाद सिंह पूर्व केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री जी हाँ तीन तीन बार केन्द्र में मंत्री रहे 15 साल से अधिक सांसद तथा 5 साल विधायक और 5 साल विधानपरिषद यानी 25 साल के राजनीतिक जीवन के बाद भी खपरैल पुराने घर में रहते हैं, आजतक खुद की गाड़ी नही, खुद का स्मार्टफ़ोन नहीं है। मजदूर और किसान की तरह जीवन यापन, साधारण गरीब, मजदूरों की तरह खाना सुखी रोटी, सब्जी, मक्का और जो की सतु तथा मक्का की भुजा खा कर जीवन यापन करते हैं।

यह भी पढ़ें  केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी का बड़ा एलान, अब हर गाड़ी खरीदने वालों को मिलेगा 3 गुना अधिक फायदा जानिये कैसे?

पेंशन के अलावा खाते में कोई पैसा नहीं है। यही असली समाजवादी नेता है।।बिहार के ग्रामीण सड़कों का विकास तथा प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क का निर्माण या प्रधानमंत्री ग्रामीण विद्युतीकरण हर गाँव हर घर बिजली पहुंचाने का श्रेय डाॅ रघुवंश प्रसाद सिंह को ही जाता है।।लालू प्रसाद यादव राज्य में बिहार के सड़क के विकास नहीं होने का मुख्य कारण यह था कि 2004 से पहले राज्यों के ग्रामीण सड़कों के योजना के लिए केन्द्र से 70 प्रतिशत राशि मिलती थी और राज्यों को 30 फीसदी अपने तरफ से लगाने पड़ते थे लेकिन बिहार जैसे अति पिछड़े राज्यों के लिए 30 फीसदी राशि सड़क में लगाने पर बहुत सारे योजना में कटौती करनी पड़ती।

यह भी पढ़ें  सोनू ने सोनू की सुन ली भाई जी हाँ अभिनेता सोनू सूद करवाएंगे वायरल बॉय सोनू का स्कूल में एडमिशन

दलितों, पिछड़े, अति पिछड़े, अल्पसंख्यकों और गरीब सामान्य वर्ग के लोगों क्या रघुवंश प्रसाद सिंह गरीब राजपूत परिवार में जन्म लिया है तो पाप किया है क्या? क्या रघुवंश प्रसाद सिंह जैसा ईमानदार नेता आज दलित, पिछड़े, अति पिछड़े, अल्पसंख्यक में जन्मा होता तो प्रधानमंत्री और मुख्य मंत्री आप नहीं बनाते,।।। आज रघुवंश प्रसाद सिंह का अपना जाति का लोग इसलिए गाली देता है.

कि वह आजिवन दलित, पिछड़े, वंचित, शोषित और अल्पसंख्यकों के लिए लडते रहे।।। तथा अति पिछड़े, पिछड़े और दलित समाज उन्हें इसलिए समर्थन नहीं कर रहा है कि वह एक गरीब राजपूत है जिन्होंने एक रुपया का भ्रष्टाचार नहीं किया, माफियाओं, ठेकेदार, अपराधियों, हत्यारे को संरक्षण नहीं दिया।।समाजबादी विचार धारा के प्रतीक हैं।

यह भी पढ़ें  अपनी बेटी के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए इस सरकारी स्कीम में करें निवेश, होगा फायदा जाने डिटेल्स....