बिहार की पॉलिटिक्स में मांझी का नया गेम शुरू, लालू-राबड़ी पर छलका प्यार, बवाल शुरू

क्या कोई नई खिचड़ी पका रहे हैं मांझी? बैठक से एक दिन पहले लालू-राबड़ी को दी शादी की सालगिरह की बधाई : पूर्व मुख्यमंत्री और हम के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी क्या इन दिनों कोई नई सियासी खिचड़ी पका रहे हैं? बिहार के सियासी गलियारे में इसको लेकर कयासों का दौर जारी है।

कुछ दिनों से उनके द्वारा किए जा रहे ट्वीट भी ऐसी चर्चाओं को हवा दे रहे हैं। इसी क्रम में श्री मांझी ने मंगलवार को राजद प्रमुख लालू प्रसाद और राबड़ी देवी को उनकी शादी की 48वीं सालगिरह की बधाई दी है। यह भी गौरतलब है कि मांझी की यह बधाई हम की राष्ट्रीय कार्यसमिति की बैठक की पूर्व संध्या पर आई है। बुधवार को हम राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक बुलाई गई है। ऐसे में लोगों की नजरें इस बैठक पर टिकी हैं कि आखिर श्री मांझी अपने पार्टी पदाधिकारियों को क्या संदेश देते हैं। बैठक में कौन-कौन से अहम निर्णय लिये जाते हैं।

यह भी पढ़ें  बिहार में एक-एक बदला मौसम का मिजाज राजधानी पटना, भोजपुर, गया, नालंदा, रोहतास और औरंगाबाद के लोग रहें अलर्ट !

ध्यान देने लायक है कि बिहार में एनडीए का अंग रहते हुए भी श्री मांझी के हाल के रुख से राजनीतिक हलचल तेज हुई है। उन्होंने गत 24 मई को ट्वीट कर सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा था। तल्ख टिप्पणी की थी कि टीकाकरण के प्रमाणपत्र पर तस्वीर लगाने का इतना ही शौक है तो कोरोना से मरने वाले के डेथ सर्टिफिकेट में भी इनकी तस्वीर होनी चाहिए। इसके एक दिन पहले 23 मई को उन्होंने कहा था कि देश में संवैधानिक संस्थाओं के सर्वेसर्वा राष्ट्रपति होते हैं तो कोरोना के प्रमाणपत्र पर भी उन्हीं की तस्वीर होनी चाहिए, ना कि प्रधानमंत्री की।

यह भी पढ़ें  चंद घंटो में बिहार से नेपाल पंहुचेंगे यात्री, इस रूट पर एक और रेल लाइन का होगा निर्माण।

29 मई को श्री मांझी के आवास पर जाकर उनसे वीआईपी के प्रमुख मुकेश सहनी मिले थे। मुलाकात के दौरान सहनी ने श्री मांझी की उस मांग का समर्थन किया था, जिसमें उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों का कार्यकाल छह माह बढ़ाने की बात कही थी। सरकार में रहते हुए इन दोनों की यह सार्वजनिक मांग भी राजनीतिक गलियारे में चर्चा का विषय बनी।

मालूम हो कि इन दोनों नेताओं की पार्टियां बिहार में एनडीए सरकार की अंग हैं। दोनों के एक-एक मंत्री हैं। हालांकि श्री मांझी ने मंगलवार को परामर्शी समिति से पंचायतों का कार्य कराने के निर्णय पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को धन्यवाद दिया है।
एनडीए के तमाम नेता भले ही यह दावा कर रहे हैं कि जीतन राम किसी और के ‘मांझी’ नहीं बनेंगे, लेकिन जानकारों का तर्क है कि मांझी की सियासी उड़ान भरने की महत्वाकांक्षा जगजाहिर है।

यह भी पढ़ें  हरियाणवी डांसर Sapna Choudhary की अचानक बिगड़ी तबियत हुई अस्पताल में भर्ती, शेयर की विडियो

नीतीश को छोड़ कहीं नहीं जाएंगे मांझी: दानिश
हम प्रवक्ता दानिश रिजवान ने कहा है कि जीतन राम मांझी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को छोड़कर कहीं नहीं जाएंगे। श्री मांझी एनडीए के साथ मजबूती से खड़े हैं। लालू प्रसाद और राबड़ी देवी को बधाई देने की बात का सियासी मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए।