मिग-21 क्रैश में शहीद पायलट अभिनव ने 1 रुपया लेकर की थी शादी, खूब हुई थी सराहना; पसरा मातम

पंजाब के मोगा में हुए देर रात विमान क्रैश में मेरठ के गंगानगर निवासी फायटर पायलट अभिनव चौधरी की मौत हो गई। मौत की सूचना से शहर में शोक की लहर दौड़ पड़ी। अभिनव का परिवार मूल रूप से बागपत का रहने वाला है। उन्‍होने 25 दिसंबर 2019 को शादी की थी। वायु सेना में फाइटर पायलट अभिनव चौधरी ने लगन-सगाई में सिर्फ एक रुपया लेकर दहेजलोभियों को करारा तमाचा जड़ा था।

मोटे दहेज वाले रिश्ते ठुकराकर उन्होंने और उनके परिवार ने मिसाल कायम करने के साथ समाज में भी सकारात्मक संदेश दिया था। इनके इस कदम से इनकी खूब सराहना हुई थी। इनके शहादत से कोहराम मचा हुआ है।

गंगासागर कॉलोनी स्थित आवास पर अभिनव की लगन-सगाई हुई तो पिता सतेंद्र चौधरी ने कन्या पक्ष से रस्म के तौर पर केवल एक रुपया ही स्वीकार किया था। सतेंद्र का मानना था कि शादी में दहेज की कोई भूमिका नहीं होनी चाहिए। दहेज दो परिवारों को जोड़ने का जरिया नहीं है। इस कुप्रथा पर पूर्ण रोक लगनी चाहिए।

पढ़ाई लिखाई में अभिनव शुरू से ही बेहद होनहार रहे हैं। पढ़ाई के अलावा भी उनकी रूचि तरह तरह के खेलों व अन्य गतिविधियों में रही है। मेरठ में ही रहने के दौरान पांचवी तक की पढ़ाई ट्रांसलेट एकेडमी में हुई थी। इसके बाद कक्षा 6 से 12वीं तक की पढ़ाई राष्ट्रीय इंडियन मिलिट्री कालेज देहरादून में हुई। आरआईएमसी में देश भर से चुनिंदा बच्चों को ही प्रवेश मिलता है, 

हतोत्साहित करने के बजाय पिता सत्येंद्र चौधरी सहित सभी ने प्रोत्साहित किया और आरआईएमसी देहरादून में प्रवेश करा दिया। वहीं रहते हुए पढ़ने के दौरान अभिनव पढ़ाई को आत्मसात करने के साथ ही फौजी जीवन को भी अपनाना शुरू कर दिया था। वहां से निकलकर एनडीए पहुंचे और एनडीए के बाद एयर फोर्स अकेडमी की ट्रेनिंग पूरी कर 2014 में वायु सेना में भर्ती हुए। पुणे में एनडीए की ट्रेनिंग और पढ़ाई के बाद हैदराबाद में एयर फोर्स अकेडमी में अफसर बनने का प्रशिक्षण पूरा किया।