इजरायल और फिलिस्तीन के बीच संघर्ष विराम, दुनिया ने ली राहत की सांस

Israel Palestine Ceasefire: इजराइल और हमास के बीच जारी खूनी संघर्ष थम गया है। दुनिया के सभी बड़े नेताओं ने इस पहल की सराहना की है। जानकारी के मुताबिक, अमेरिका के दबाव के आगे इजरायल को झुकना पड़ा है.

और वह 11 दिनों से गाजा पट्टी में जारी अपने सैन्य अभियान को एकतरफा रूप से रोकने के लिए तैयार हो गया है। उधर, अमेरिका में व्हाइट हाउस के प्रेस सेकेट्री जेन साकी ने इस घटनाक्रम को उत्साहजनक करार दिया है।

इजरायली मीडिया के मुताबिक, प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू की अध्यक्षता में हुई सिक्यूरिटी कैबिनेट की बैठक में इस फैसले को मंजूरी प्रदान की गई। याद दिला दें कि हमास के एक शीर्ष कमांडर ने शुक्रवार तक संघर्ष विराम होने की उम्मीद जताई थी। हमास के सियासी दफ्तर के वरिष्ठ अधिकारी मूसा अबू मरजौक ने एक लेबनानी टीवी से कहा था,

andquot;मुझे लगता है कि संघर्ष विराम को लेकर चल रहे प्रयास सफल होंगे। मुझे उम्मीद है कि आपसी सहमति से एक-दो दिन में संघर्ष विराम के लिए समझौता हो सकता है।andquot; मिस्र के एक सूत्र ने बताया था कि मध्यस्थ देशों की मदद से दोनों पक्षों में संघर्ष विराम को लेकर सहमति बन गई है।

इससे पहले गुरुवार तड़के इजरायल ने गाजा पट्टी में हमास के खिलाफ फिर हवाई हमले किए। इसमें एक फलस्तीनी की मौत हो गई और कई घायल हो गए। इजरायली सेना ने बताया कि गाजा के खान यूनिस और राफह इलाकों में हमास के तीन कमांडरों के घरों को निशाना बनाया गया।

इसके अलावा एक सैन्य ढांचे के साथ एक हथियार भंडार को भी निशाना बनाया गया। खान यूनिस में एक दो मंजिली इमारत को ध्वस्त कर दिया गया। इलाके में रहने वाले एक व्यक्ति ने बताया कि इस इमारत के बाहर सो रहे 11 लोग घायल हो गए। वे हमले के डर से बाहर सो रहे थे। इसके अलावा एक और घर पर हुए हमले में एक महिला की मौत हो गई.

और तीन अन्य घायल हो गए। उत्तरी गाजा में एक शरणार्थी शिविर पर भी हवाई हमला किया गया। इजरायली सेना ने बताया कि शिविर में दो भूमिगत लांचर थे। तेल अवीव पर राकेट हमले में इनका इस्तेमाल किया जाता था।