एंबुलेंस मामले में पर रूडी की सफाई, कहा- अपराधी यदि मंदिर में बैठ जाएं तो संत नहीं हो सकता

पप्पू यादव द्वारा सारण के सांसद राजीव प्रताप रूडी के सांसद फंड से खरीदे गए एंबुलेंस के खुलासे के बाद अब राजीव प्रताप रूडी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सफाई दी है. पत्रकारों से बात करते हुए रूडी ने कहा है कि राजनीति में 30 साल तक हमें काम करने का मौका मिला. मेरा पॉलिटिकल बैकग्राउंड रहा है. आज हालात ऐसा है कि मुझे सामने आकर सफाई देना पड़ रहा है. मेरा किसी से भी व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है.

उन्होंने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री खुद कहते हैं कि कानून का राज होना चाहिए मेरा भी यहीं कहना है इस दौरान उन्होंने सांसद पप्पू यादव पर निशाना साधा. जिसमें रूडी ने बताय कि पप्पू यादव के खिलाफ 32 मामले दर्ज हैं. ऐसे में अपराधी यदि मंदिर में बैठ जाएं तो संत नहीं हो सकता. उन्होंने कहा की राजनीतिक अपराधी से लड़ना बेहद मुश्किल है.

रूडी ने कहा कि बड़े ही दुखी मन के साथ आज प्रेस वार्ता कर रहा हूं. इस दौरान रूडी ने यह भी कहा कि पूर्व विधायक अजीत सरकार ह-त्याकां-ड मामले में कांग्रेस के लोग पप्पू यादव के साथ हैं जबकि न्याय दिलाने के लिए वे पीड़ित परिवार के साथ खड़े हैं. पप्पू यादव ने बीस-बीस सालों से कई केसों को दबाकर रखा है. जिस पर न्यायालय संज्ञान ले रही है.

22 मार्च 2021 को उनके खिलाफ वारंट जारी किया गया. पप्पू यादव बीमार हैं इसलिए उन्हें उनके प्रति संवेदना भी है. रूडी ने कहा कि उनके बारे में बिना तथ्यों के सोशल मीडिया पर बातें रखी जा रही है. मैं कोई महिन्द्रा का डीलर नहीं, ना मेरे पास कोई शो रुम या एजेन्सी है. मैं कोई एम्बुलेंस की एजेन्सी नहीं चलाता.

रूडी का आरोप है कि जाप अध्यक्ष पप्पू यादव ने जनप्रतिनिधियों का अपमान किया है. जब हमने कहा था कि ड्राइवर के नहीं रहने के कारण एम्बुलेंस खड़े है. तब पप्पू यादव ने 40 ड्राइवर भेजे जाने की बात कही थी लेकिन हकीकत यह है कि कोई हमारे पास नहीं आया. हालांकि चौबीस घंटे तक यह समाचार चलता रहा.

हमने पहले ही डीएम को चिट्ठी लिखकर एम्बुलेंस ड्राइवर की मांग की थी. पप्पू यादव काम करने वालों पर ही उंगली उठाते हैं. कोई पूर्व सांसद किसी दूसरे सांसद के घर जबरदस्ती नहीं घुसता. पप्पू यादव को लगा कि इससे उन्हें ख्याति मिलेगी. कोरोना का कहर पूरे देश में जारी है.

बुरा वक्त है लोगों को एक दूसरे की मदद करनी चाहिए. किसी तरह के आरोपों से बचना चाहिए. मेरे जीवन के अच्छे आठ दिन इस पूरे प्रकरण में खराब हुए. मैं बदनामी से नहीं डरता. बदनामी के पीछे कोई आधार हो तब ठीक रहता है. मैं जाप अध्यक्ष पप्पू यादव के स्वस्थ्य होने की कामना करता हूं.