बिजली उपभोक्ता हो जाएं सावधान, नहीं तो प्रीपेड मीटर वालों की लापरवाही आपकी जेब पर पड़ सकती भारी

अगर आपके घर या प्रतिष्ठान में स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगा है और बिजली बिल नहीं आ रहा है तो आप बेफिक्र नहीं रहे। बिजली बिल की राशि बचाकर रखें। आपको अचानक बड़े बकाया राशि का बिल आ सकता है। आपको एक साथ बिल आने पर इस बड़ी राशि का भुगतान भी करना होगा अन्यथा बिजली कट जाएगी। बिजली कंपनी की ओर से बताया गया कि तकनीकी कारणों से होने वाली बिजली का आकलन कभी-कभी नहीं हो पा रहा है |

और उपभोक्ता को वेलकम मैसेज नहीं आता है। जिससे उनका बिल साइकिलिंग में नहीं आ पाता है और फिर कई महीनों बाद अचानक बिल आ जा रहा है। अचानक एक बार में बिजली बिल की बड़ी राशि बकाया में दर्ज होने पर उपभोक्ताओं को भारी परेशानी हो रही है। बिजली विभाग के अधिकारी का कहना है कि इस परेशानी से बचने के लिए उपभोक्ता अपने घर के मासिक बजट में बिजली बिल की राशि को शामिल करें।

यह भी पढ़ें  बिहार में मेगा टेक्‍सटाइल पार्क के लिए 1700 एकड़ जमीन हुआ चिह्नित, जल्द होगी NOC लेने की प्रकिया शुरू

बताते चलें कि बिजली कंपनी शहरी क्षेत्र में प्रीपेड मीटर लगाने का अभियान चला रही है। अब तक लगभग 29000 उपभोक्ताओं के यहां स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाया जा चुका है। कंपनी का प्रयास है कि जल्द से जल्द प्रत्येक उपभोक्ता के डोरवेल पॉइंट पर स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगा दिया जाए।

आपूर्ति प्रमंडल बिहारशरीफ के विद्युत कार्यपालक अभियंता विकास कुमार ने बताया कि बिजली कंपनी स्मार्ट प्रीपेड मीटर वाले उपभोक्ताओं को कई प्रकार की सुविधाएं दे रही है। उन्होंने बताया कि प्रीपेड मीटर में ऑनलाइन रिचार्ज कराने पर 3 प्रतिशत तक की अतिरिक्त छूट मिलती है।

जबकि साधारण मीटर में छूट की राशि 2.5 प्रतिशत ही है। उन्होंने बताया कि स्मार्ट प्रीपेड मीटर में नए विद्युत संबंध लेते समय अथवा लोड बढ़ाने पर जमानत की राशि नहीं देना पड़ता है। जबकि साधारण मीटर में उपभोक्ता को लोड के अनुसार जमानत की राशि का भुगतान करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें  Indian Railway : दुसरे जगह ले जानी है बाइक इस तरह ट्रेन से ले जा सकते है अपनी गाड़ी जानिये कितना लगेगा पैसा?

इसके अलावा प्रीपेड मीटर में अग्रिम भुगतान किया जाता है और अपने बजट एवं खपत के अनुसार महीने में एक या एक से अधिक बार में रिचार्ज कर सकते हैं। जबकि साधारण मीटर में उपभोक्ता को 1 महीने का खपत का बिल एक मुश्त देना पड़ता है और सीमित समय के बाद विलंब अधिभार भी लगता है।