Sonu Sood ने बिहार के बेटी चौमुखी कुमारी का बदला किस्मत सफल हुआ ऑपरेशन

जब भी किसी गरीब असहाय को मदद करने की बात आती है तो सबसे पहले नंबर पर नाम आता है बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद का बता दे कि जब हमारा देश सबसे मुश्किल की घड़ी महामारी से गुजर रहा था | तब बॉलीवुड सुपरस्टार सोनू सूद ने शुरुआत से लेकर आज तक सोनू सूद ने हजारों लोगों की मदद कर चुके हैं.

सोनू सूद की इस मददगार छवि और मानवीय गुण के चलते उनके फैंस और मदद पाने वाली गरीब परिवार दोनों उन्हें मसीहा कह कर बुलाने लगे है. ताजा मामले में सोनू सूद ने एक चार पैर और चार हाथ की बच्ची का ऑपरेशन कराया तो उस मासूम चहुमुखी की जिंदगी भी बदल गई है |

यह भी पढ़ें  बिहार के भागलपुर की बेटी को अमेजन ने दिया 1.10 करोड़ का बड़ा पैकेज, सब दे रहे बधाई

सोनू सूद मदद करते समय जरूरतमंद की जाति, धर्म या जन्म स्थान नहीं देखते हैं. दूसरो की मदद करने का जज्बा उनमें इस कदर कूट कूट कर भरा है कि जिसने जब कभी भी सोनू को मदद के लिए पुकारा तो उन्होंने जवाब देने या मदद के लिए हाथ बढ़ाने में देरी नहीं लगाई.

यहां बात बिहार के नवादा जिले की सौर पंचायत निवासी चहुंमुखी कुमारी की जिसके जन्‍म से ही 4 हाथ और 4 पैर थे. सोशल मीडिया के जरिए बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद को इसकी सूचना मिली तो उन्‍होंने चहुंमुखी का इलाज कराने का फैसला किया. अब ये सोनू सूद के प्रयासों का ही नतीजा है कि ढाई साल की मासूम की सफल सर्जरी हो सकी

यह भी पढ़ें  बिहार की बेटी : घर बैठे की पढाई सेल्फ स्टडी के बदौलत पहले प्रयास में मिला सफलता बनी दरोगा

ढाई साल की चहुंमुखी कुमारी चहुमुखी फिलहाल एकदम ठीक है उसकी हालत भी बेहतर हो रही है लेकिन फिर भी उसे कुछ दिनों के लिए और अस्पताल में रहना होगा. इसके बाद वह एक सामान्‍य बच्‍ची की तरह अस्पताल से बाहर आएगी और आम बच्‍ची की तरह रह सकेगी. सोनू सूद ने चहुंमुखी की सर्जरी पर आने वाला पूरा खर्च खुद वहन किया है. इससे पहले 28 मई को सोनू सूद ने कहा था, ‘टेंशन मत लीजिए मैनें उस बच्ची का इलाज शुरू करा दिया है. बस दुआ करिएगा.’

यह भी पढ़ें  भारतीय रेल में सफ़र करते समय ले गए अधिक समान तो पड़ सकता है आपके जेब पर असर जाने नियम?

सौर पंचायत की मुखिया गुड़िया के पति दिलीप चहुंमुखी और उसके परिवार को लेकर मुंबई गए थे. वहां सोनू सूद ने चहुंमुखी से मुलाकात कर उसे सूरत भेजा था. सूरत में एक्सपर्ट डॉक्टरों की एक टीम ने उसका चेकअप किया फिर 7 घंटे तक चली सर्जरी के बाद चहुंमुखी की जिंदगी बदल गई. वहीं उसके मां-बाप के चेहरे की रंगत लौट आई है.