बिहार में सोना के बाद अब इन दो जिले में मिला तेल का भंडार, सीएम नीतीश ने दी खोजने की अनुमति

देशभर में पेट्रोल डीजल की कीमत देख लोग परेशान हो रहे हैं ऐसे में बिहार के लोगों के लिए एक अच्छी खबर है बता दे कि बिहार के 2 जिलों में पेट्रोलियम की खोज की जाएगी। इसके लिए बिहार सरकार अनुमति दे दी है।
बीते कुछ दिनों से मीडिया में यह खबर आग की तरह फैल गई जिसके बाद ऑयल एंड नेचुरल गैस कारपोरेशन ने बिहार सरकार से खोजने की अनुमति मांगी थी जिसे लेकर बिहार सरकार ने अनुमति दे दी है।

इसके पहले भी सिवान, पूर्णिया और बक्सर में तेल भंडार होने का अनुमान लगाया गया था। जानकारी के अनुसार गंगा बेसिन में समस्तीपुर में करीब 308.32 वर्ग किमी, जबकि बक्सर 52.13 वर्ग किमी में तेल भंडार होने का अनुमान है। तेल भंडार कितना है इसके आकलन के लिए पहले राज्य की अनुमति आवश्यक है। ओएनजीसी के आवेदन के बाद खनन विभाग ने दोनों जिलों के प्रशासनिक प्रमुखों को इस संबंध में अवगत करा दिया है।

राज्य सरकार की अनुमति मिलने के बाद तेल भंडार की खोज के पहले चरण में भूकंप डेटा रिकार्डिंग प्रणाली का उपयोग कर 2-डी भूकंपीय सर्वेक्षण होगा। इसके बाद गुरुत्वाकर्षण चुंबकीय और मैग्नेटो-टेल्यूरिक (एमटी) सर्वेक्षण भी होगा। पुष्टि होने के बाद प्राकृतिक तेल प्राप्त करने के लिए आगे की प्रक्रिया निर्धारित की जाएगी।

बता दें कि बक्सर में करीब चार वर्ष पूर्व ही गंगा बेसिन में तेल का भंडार होने के सबूत मिले थे। उस दौरान ओएनजीसी की टीम ने सिमरी में कैंप कर तेल भंडार की जानकारी के लिए सर्वे किया था। पहले चरण में राजपुर कला पंचायत में कुछ स्थानों पर खनन भी किया गया था। बक्सर के अलावा सिवान के रघुनाथपुर में भी तेल होने की जानकारी मिलने पर मिट्टी के नमूने जांच को हैदराबाद भेजे गए थे। इन दो स्थानों के साथ पूर्णिया में भी 46.5 करोड़ टन कच्चे तेल का अनुमान लगाया गया था।