बिहार के इस जिले में कचरे से बनेंगे पेट्रोल-डीजल सस्ते होंगे तेल लोगों को मिलेगा रोजगार

बिहार के लोगों के लिए अच्छी खबर है | बिहार के मुजफ्फरपुर में प्लास्टिक कचरे से बनेंगे पेट्रोल-डीजल की स्टार्टअप की चर्चा धीरे-धीरे पुर देश में फैल गई है | अब योजना बनाई जा रही है कि इसको पुरे देश में विस्तारित किया जाए बता दे कि पीएमओ की पहल पर इस संबंध में केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने मुजफ्फरपुर के कुढ़नी में स्टार्टअप की शुरु करने वाले जिले के आशुतोष मंगलम को खत लिखा है।

वहीँ बोर्ड के अधिकारियों के द्वारा पत्र में प्लास्टिक कचरा से डीजल पेट्रोल तैयार करने वाले टेक्नोलॉजी को शेयर करने का मंतव्य दिया गया है। बोर्ड ने अपने अस्तर से प्लास्टिक कचरे से निर्मित पेट्रोल-डीजल बनाने की टेक्नोलॉजी का परीक्षण करेगी। ट्रायल करेगी अगर सफल हुआ तो क्जल्ड ही यह दुरे जिला में भी देखने को मिलेगी | इसके अलावा 25 मई को इस स्टार्टअप की समीक्षा प्रधानमंत्री दफ्तर का स्तर पर किया जाएगा।

स्टार्टअप शुरू करने वाले आशुतोष कुमार मंगलम ने कहा कि नगर निगम से फिलहाल प्लास्टिक कचरा ले रहे हैं। अब तैयारी है कि घरों एवं स्कूलों से प्लास्टिक कचरा खरीदा जाए। इसके लिए प्रधानमंत्री दफ्तर के स्तर से सलाह दिया गया है। छह रुपये का भुगतान एक किलो प्लास्टिक कचरे के लिए किया जाता है। मुजफ्फरपुर के लिए बहुत गर्व की बात है |